बिहार में श्रमिकों पर सियासत: तेजस्‍वी ने पोस्‍टर जारी कर CM नीतीश से पूछा- आपको गुंडे क्‍यों लगते हैं मजदूर

yamaha

पटना। बिहार में श्रमिकों पर सियासत गरमा गई है। राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad yadav) के बेटे व नेता प्रतिपक्ष (Leader of Opposition) तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) ने पार्टी का पोस्‍टर जारी करते हुए मुख्‍यमंत्री (CM) नीतीश कुमार (Nitish Kumar) से पूछा है कि उन्‍हें प्रवासी श्रमिक (Migrant Workers) गुंडे क्‍यों नजर आ रहे हैं? नीतीश कुमार के खिलाफ उनके कड़े बयान पर जनता दल यूनाइटेड (JDU) ने भी पलटवार किया है।

पुलिस मुख्‍यालय के पत्र से शुरू हुआ विवाद

विदित हो कि आर्थिक परेशानी से जूझ रहे बाहर से लौटे प्रवासी श्रमिकों के अपराध की ओर कदम बढ़ाने की आशंका जाहिर करते हुए बिहार के एडीजी (कानून-व्‍यवस्‍था) अमित कुमार ने सभी जिलों के पुलिस कप्तानों (SP) को बीते 29 मई को अलर्ट रहने के लिए एक पत्र जारी किया था। पत्र के सार्वजनिक होते ही विपक्ष (Opposition) सरकार (Government) पर हमलावर हो गया। तेजस्वी यादव ने सार्वजनिक तौर पर पत्र की कॉपी को फाड़ा तथा सरकार पर जमकर निशाना साधा। इसके बाद पुलिस मुख्यालय बैकफुट पर आ गया। डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि पत्र भूलवश जारी हो गया था।

तेजस्‍वी ने आरजेडी कार्यालय में जारी किया पोस्‍टर

पुलिस मुख्‍यालय ने भले ही अपनी गलती मान ली, लेकिन राजनीति (Politics) थमने का नाम नहीं ले रही। इसे लेकर शुक्रवार को तेजस्‍वी यादव ने आरजेडी कार्यालय में नीतीश सरकार (Nitish Government) को घेरता एक पोस्‍टर (Poster) जारी किया। खास बात यह कि पोस्‍टर उन्‍होंने खुद टांगा। उनकी मदद प्रदेश आरजेडी अध्‍यक्ष जगदानंद सिंह ने की।

पोस्‍टर में सीएम नीतीश कुमार से किए कई सवाल

जारी पोस्‍टर में नीतीश कुमार से सवाल किया है कि श्रमिक उन्‍हें गुंडे व अपराधी क्‍यों दिखे तथा उन्‍होंने मजदूरों को लुटेरा क्‍यों कहा? उन्‍होंने श्रमिकों को रोजगार नहीं देने तथा उनका अपमान करने को लेकर भी सवाल उठाए। पोस्‍टर को आरजेडी ने ट्वीट भी किया।

Rashtriya Janata Dal

@RJDforIndia

नीतीश कुमार द्वारा बिहार के ग़रीबों और श्रमिकों को गाली देने और उन्हें अपराधी बताने वाली अपमानजनक अमानवीय चिट्ठी के होर्डिंग को पटना में नेता प्रतिपक्ष @yadavtejashwi ने स्वयं लगाया।

नीतीश कुमार ने रोज़गार नहीं देने की बात कह मज़दूरों को गुंडा, लुटेरा और अपराधी कहा था।

Twitter पर छबि देखेंTwitter पर छबि देखेंTwitter पर छबि देखेंTwitter पर छबि देखें
137 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं

कहा: पत्र मुख्‍यमंत्री की अंतरात्‍मा की उपज

पोस्‍टर जानी करने के बाद तेजस्‍वी ने कहा कि यह पत्र गलती से जारी नहीं हुअा, बल्कि यह नीतीश कुमार की अंतरात्‍मा की उपज है। यह पत्र सरकार की गरीब विरोधी मानसिकता का प्रमाण है। तेजस्‍वी ने कहा कि वे श्रमिकों को रोजगार नहीं देंगे, बल्कि श्रमवीरों भाईयों को चोर, लुटेरा और अपराधी बताएंगे। उन्‍होंने नीतीश कुमार से पूछा कि क्‍या बिहारी श्रमिक गुंडे हैं? तेजस्‍वी ने यह विवादित बयान भी दिया कि नीतीश कुमार या तो पीठ में खंजर भोंकते हैं या दूसरे के कंधे से बंदूक चलाते हैं।

बयान पर जेडीयू का पलटवार, बताया अपरिपक्‍व नेता

तेजस्‍वी के विवादित बयान पर जेडीयू ने पलटवार किया। जेडीयू के राष्‍ट्रीय महासचिव केसी त्‍यागी ने कहा कि तेजस्‍वी अपरिपक्‍व नेता हैं। उन्‍हें नहीं के बराबर अनुभव है। केसी त्‍यागी ने तेजस्‍वी को ऐसी टिप्‍पणी से परहेज करने की सलाह दी।

raja moter

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.