Logo
ब्रेकिंग
भव्य कलश यात्रा के साथ माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव शुरू रामगढ़ में मनाया गया 74 वां गणतंत्र दिवस, विभिन्न कार्यालयों द्वारा निकाली गई झांकी माँ की ममता से दूर जेल में बंद पूर्व विधायक मामता देवी का दूधमुहा बच्चा बीमारी की गिरफ्त में । माता वैष्णों देवी मंदिर के 32वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 26 को सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर याद किए गए नेताजी, रामगढ़ से जुड़ा है नेताजी के कई लम्हो का नाता । स्वीप के तहत जिला प्रशासन एकादश एवं दिव्यांग एकादश के बीच हुआ क्रिकेट मैच का आयोजन । नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती एवं पराक्रम दिवस के अवसर पर माल्यार्पण कार्यक्रम का हुआ आयोजन । रामप्रसाद चंद्रभान सरस्वती विद्या मंदिर में संस्कृति ज्ञान परीक्षा का आयोजन। मेदांता रांची द्वारा अधिवक्ता संघ परिसर में लगाया गया निशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर । रामगढ़ विधानसभा उपचुनाव को लेकर कांग्रेस के पदाधिकारियों की हुई बैठक ।

नाैवीं की परीक्षा में संतोषजनक परिणाम नहीं आने पर छात्र ने की आत्महत्या, सदमे में परिजन

देवघर। परीक्षा परिणाम संतोषजनक नहीं आने से परेशान रानी मंदाकिनी हाईस्कूल, करौं का छात्र सुमन कुमार सिंह ने गुरुवार की शाम फांसी लगाकर जान दे दी। उसे फांसी पर लटका देख परिवार में कोहराम मच गया। मां एवं बहन उससे लिपटकर रोने लगे। सूचना मिलने पर एएसआइ कलाम अंसारी, भागीरथ महतो, रविन्द्र सिंह घटनास्थल पर पहुंचे। शव को कब्जे में लेकर उसने उसे पोस्टमार्टम के लिए शुक्रवार की सुबह देवघर भिजवा दिया।

पुलिस के मुताबिक चांदचैरा निवासी सुरेश सिंह धनबाद में वाहन चलाकर परिवार का भरण-पोषण करता है। तीन बच्चों में सबसे बड़ा 16 वर्षीय पुत्र सुमन कुमार सिंह रानी मंदाकिनी प्लस टू हाईस्कूल में नौवीं का छात्र था। उसने नौवीं की परीक्षा दी थी। जिसका परिणाम दो दिन पूर्व निकला था। इसमें उसे बी ग्रेड प्राप्त हुआ। संतोषजनक परिणाम प्राप्त नहीं होने के कारण वह परेशान था। मृतक की मां ने उसे समझाते हुए संतोषजनक परिणाम नहीं आने का कारण पूछा।  गुरुवार को रोजाना की तरह करौं ट्यूशन पढ़ने के लिए गया। उसकी मां  गुरुवार व्रत रखने की वजह से काफी व्यस्त थीं। शाम में सुमन की खोज होने लगी। जब मां बगल के कमरे के भीतर पहुंची तब सुमन को फंदे से लटका देख उसकी चीख पड़ी। चीख सुनते ही पड़ोस के लोग भी आ गए।

सूचना मिलने पर पुलिस भी वहां पहुंच गई। उधर धनबाद से घर लौटे पिता सुरेश सिंह का कहना कि घर में उसे कोई कमी नहीं की गई थी। लाॅकडाउन में ऑनलाइन पढ़ाई के लिए फोन खरीदने के लिए दस हजार रुपये मांगा था। पैसा उसके खाते में भेज दिया गया था। उसने सीएसपी से पैसे की निकासी भी की लेकिन मोबाइल फोन नहीं खरीदा। पैसा घर में सुरक्षित है। कहा-उसके आत्महत्या कर लेने का कारण समझ में नहीं आ रहा है।

nanhe kadam hide