दुराचार मामले में नर्स के बयान पर होमगार्ड जवान की फंसी गर्दन, मेडिकल जांच में भी पुष्टि

yamaha

धनबाद। पीएमसीएच में विक्षिप्त युवती से दुष्कर्म मामले में पुलिस होमगार्ड जवान शंकर राय उर्फ चमक को जेल भेजेगी। डीएसपी मुकेश कुमार की जांच में सभी गवाहों ने होमगार्ड जवान के खिलाफ बयान दिया है। लिहाजा पर्यवेक्षण में डीएसपी ने मामले को सत्य करार देते हुए जवान के खिलाफ कार्रवाई का आदेश जारी किया है। चूंकि इस मामले की प्राथमिकी महिला थाना में पूर्व से दर्ज है। लिहाजा गुरुवार को पुलिस होमगार्ड जवान को न्यायिक हिरासत में जेल भेजेगी।

होमगार्ड जवान ने जिस तीन नर्सों को गवाह बनाया था, उन्होंने डीएसपी को बयान दिया है कि जब विक्षिप्त महिला पीएमसीएच से अचानक गायब हो गई, तब वे लोग ढूंढऩे के लिए उसे पीएमसीएच से बाहर निकले। लौटते वक्त देखा कि जवान महिला को छत से लेकर उतर रहा है। छत से उतरने के बाद पीडि़ता रोते हुए दुखड़ा सुना रही थी। जिसका अस्पताल का एक वॉर्ड ब्वॉय उमांशकर ने वीडियो बनाया था। नर्स का यही बयान होमगार्ड के गले की फांस बन गया।

दरअसल होमगार्ड जवान ने पुलिस को बयान दिया था कि विक्षिप्त युवती छत पर चढ़ गई थी। नर्स के कहने पर उसे उतारने के लिए वह छत पर गया था। जवान के इसी बयान के सत्यापन के लिए तीनों नर्स से पूछताछ हुई। इधर पीडि़ता का भी पुलिस ने मंगलवार को कोर्ट में 164 के तहत बयान दर्ज कराया। जहां पीडि़ता ने दुष्कर्म होने की बात बताई है। चूंकि यह मामला एक माह पूर्व का है। लिहाजा डीएसपी ने तीनों नर्स व वॉर्ड ब्वॉय से पूछा कि घटना के दिन पुलिस को क्यों नहीं खबर दी गई, तो नर्स ने पुलिस को बताया कि वे लोग अपने सीनियर को रिपोर्ट की थी। डीएसपी मुकेश कुमार ने बताया कि तीनों नर्स, कॅर्ड ब्वॉय का बयान और पीडि़ता का 164 के तहत बयान के आधार पर मामला सत्य पाया गया। लिहाजा आरोपित को पुलिस जेल भेजेगी।

मेडिकल जांच में हुई पुष्टि

दुष्कर्म का यह मामला एक माह पूर्व का है। लिहाजा पीडि़ता की मेडिकल जांच में आरोपित को इसकी फायदा हो सकता है। ऐसी आशंका पुलिस भी जता रही है। हालांकि मेडिकल जांच में पुष्टि हुई है।

raja moter

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.