Logo
ब्रेकिंग
आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी

16 से 18 मार्च तक बांग्लादेश की यात्रा पर जा सकते हैं पीएम मोदी, शेख हसीना से मुलाकात संभव

ढाका। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 16 से 18 मार्च तक बांग्लादेश की यात्रा पर जा सकते हैं। इस यात्रा के दौरान वह अपने बांग्लादेशी समकक्ष शेख हसीना से वार्ता कर सकते हैं। स्थानीय मीडिया में इस आशय की जानकारी दी गई है।

ढाका ट्रिब्यून ने विभिन्न सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि 18 मार्च को पीएम मोदी और शेख हसीना के बीच होने वाली वार्ता में कई द्विपक्षीय मुद्दों पर बातचीत होने की उम्मीद है। प्रधानमंत्री मोदी तीन दिनों की यात्रा के क्रम में 16 मार्च को ढाका पहुंचेंगे। 17 मार्च को वह शेख मुजीबुर रहमान की जन्मशती के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में भाग लेंगे। अखबार के मुताबिक प्रधानमंत्री की यात्रा की तैयारी के लिए विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला मार्च के पहले सप्ताह में पहुंचेंगे।

बांग्लादेश में भारतीय उच्चायोग के द्वितीय सचिव पे्रस देबब्रत पॉल ने कहा, ‘यह तय है कि प्रधानमंत्री 17 मार्च को समारोह में शामिल होंगे, लेकिन उनका कार्यक्रम अभी तय किया जाना है।’

बता दें कि पीएम मोदी के निमंत्रण पर बांग्लादेश की प्रधानमंत्री सेख हसीना ने पिछले साल 5 अक्टूबर को भारत की आधिकारिक यात्रा की थी। हालांकि, बांग्लादेश के विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमिन और गृहमंत्री असदुज्जमान खान ने उनकी यात्रा के कुछ महीनों बाद ही भारत की अपनी निर्धारित यात्राओं को रद्द कर दिया था। मोमेन के दौरा रद्द होने के बाद विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया था कि उनका ये दौरा सीएए के कारण रद्द नहीं हुआ है।

बता दें पिछले साल संशोधित हुए भारत के नागरिकता कानून में भारत के तीन पड़ोसी देश पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से 31 दिसंबर 2014 से पहले आने वाले हिंदू, सिख, ईसाई, जैन, पारसी और बौद्ध धर्म के लोगों को भारत की नागरिकता दे दी जाएगी।