जापान के जहाज पर फंसे कोरोना संक्रमित लोगों को मुफ्त बांटे गए 2,000 iPhone

आईफोन में पहले से ही लाइन एप इंस्टॉल किए गए है जिनकी मदद से यात्री जापान में चिकित्सा विशेषज्ञों के साथ बात कर सकेंगे।

yamaha

टोक्योः जापान सरकार ने डायमंड प्रिन्सेस क्रूज शिप पर फंसे कोरोना वायरस से संक्रमित यात्रियों के बीच 2,000 आईफोन बांटे। फोन में सोशल मीडिया एप लाइन को इंस्टॉल करके दिया गया है ताकि लोग मैसेजिंग के जरिए डॉक्टर से कोरोना से बचने के लिए सुझाव ले सकें। मैकोटकारा की एक रिपोर्ट के मुताबिक जापान के स्वास्थ्य, श्रम और कल्याण मंत्रालय, निजी मामलों के मंत्रालय और आंतरिक मामलों के मंत्रालय और संचार मंत्रालय के सहयोग से, यात्रियों और चालक दल को 2,000 आईफोन प्रदान किए हैं।

आईफोन में पहले से ही लाइन एप इंस्टॉल किए गए है जिनकी मदद से यात्री जापान में चिकित्सा विशेषज्ञों के साथ बात कर सकेंगे। रिपोर्ट के मुताबिक जहाज के चालक दल और यात्रियों दोनों के लिए हर केबिन में कम से कम एक आईफोन दिया गया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जापान से बाहर रजिस्टर्ड गूगल प्ले-स्टोर और एप स्टोर में शायद लाइन एप डाउनलोड करने का विकल्प शायद नहीं मिलता है। इससे पहले क्रूज के कई मेंबर ने बताया था कि आईफोन में लाइन एप को आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है, जबकि एंड्रॉयड के साथ ऐसा नहीं है।

PunjabKesari

बता दें कि डायमंड प्रिन्सेस क्रूज शिप में करीब 3,700 यात्री फंसे हैं जिनमें से छह भारतीय हैं। जहाज पर 1100 क्रू मेंबर हैं, जिनमें से 132 भारतीय हैं। इनमें से 350 लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। इस क्रूज में मौजूद भारत की सोनाली ठक्कर भी है, हालांकि ठक्कर के कोरोनावायरस से संक्रमित नहीं होने की जानकारी के बाद उनके पिता दिनेश ठक्कर ने प्रधानमंत्री मोदी से उन्हें (सोनाली को) भारत वापस लाने के लिए गुहार लगाई है।

उन्होंने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा कि मैं भारत सरकार से प्रार्थना करता हूं कि मेरी बेटी को जहाज से वापस भारत लाया जाए। अब इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि वह कोरोनावायरस से संक्रमित नहीं है। जापान सरकार अपनी ओर से बेहतर कदम उठा रही है। सभी भारतीय जो कोरोनावयरस से संक्रमित नहीं है, उन्हें वापस भारत लाना चाहिए।

raja moter
Leave A Reply

Your email address will not be published.