Logo
ब्रेकिंग
आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी

उत्तर कोरिया ने अमेरिका के वार्ता प्रस्ताव को ठुकराया, बोला- विरोधी नीतियों को छोड़े तभी होगी बातचीत

सियोल। उत्तर कोरिया ने गुरुवार को कहा कि वह वार्ता प्रस्ताव की तब तक अनदेखी करेगा जब तक अमेरिका उसके खिलाफ विरोधी नीतियों को नहीं छोड़ता। इससे पहले अमेरिका ने कहा था कि उसने विभिन्न चैनलों के माध्यम से उत्तर कोरिया से संपर्क साधने की कोशिश की है। इसके बाद ही उत्तर कोरिया का यह बयान सामने आया है। विदेश मंत्री चोई सोन हुई का यह बयान दक्षिण कोरिया और अमेरिका के शीर्ष राजनयिकों और रक्षा प्रमुखों के बीच उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम को लेकर पांच सालों में पहली बार संयुक्त वार्ता से पहले आया।

चोई ने आगे कहा कि हमें नहीं लगता कि इसे लेकर अमेरिका को कोई जवाब देने की जरूरत है। इसे लेकर हम पहले ही अपना रुख साफ कर चुके हैं। उत्तर कोरिया- अमेरिका के बीच किसी भी तरह की बातचीत या संपर्क तब तक संभव नहीं हो सकता, जब तक कि अमेरिका अपनी विरोधी नीतियों को वापस नहीं ले लेता। इसलिए, हम भविष्य में भी अमेरिका के ऐसे प्रयास की अवहेलना करेंगे।

किम जोंग-उन की बहन ने अमेरिका को दी थी सख्त धमकी

इससे पहले अमेरिका को तानाशाह किम जोंग-उन की बहन किम यो जोंग ने सख्त लहजे में चेतावनी दी थी और कहा था कि अगर अमेरिका चार साल शांति से रहने चाहता है तो वह हमारी जमीन पर बारूद की गंध फैलाने की कोशिश न करे और न ही यहां अस्थिरता का कारण बने। उन्होंने दक्षिण कोरिया से शांति समझौता तोड़ने की भी धमकी दी थी। क्षिण कोरिया के साथ अमेरिका का संयुक्त युद्धाभ्यास और अमेरिका के विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकन व रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन की प्रस्तावित यात्रा से  उत्तर कोरिया भड़क गया। इसकी वजह से उसने यह धमकी दी। चोई ने भी इस मुद्दे को उठाया और कहा कि अमेरिका ने दक्षिण कोरिया के लक्षित करते हुए खुले तौर पर आक्रामक संयुक्त सैन्य अभ्यास शुरू किए हैं।