Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

दो साल की बच्‍ची 12वें फ्लोर से फिसल कर डिलीवरी ब्‍वॉय की गोद में गिरी, दिल दहलाने वाला वीडियो हुआ वायरल

वियतनाम। जिसे ईश्वर बचाना चाहे, उसका दुर्घटना क्या कर सकती है। अगर वो खुद वहां मौजूद नहीं है तो उसकी कृपा किसी न किसी रूप में जरूर पहुंचती है। अगर यकीन नहीं हो रहा तो वियतनाम की इस खबर को पढ़िए जहां एक बच्ची को बचाने डिलीवरी ब्‍वॉय पहुंच गया। अचानक पहुंचे व्यक्ति ने 12वीं मंजिल से गिरी छोटी सी बच्ची को हाथों में लेकर उसे बचा लिया।

द डेली मेल और स्‍थानीय न्‍यूज पेपर की रिपोर्ट के अनुसार, घटना कुछ इस प्रकार है, हनोई में जब सामान डिलीवर करने के लिए न्गुयेन अपने ट्रक में बैठकर एक बिल्डिंग के सामने इंतजार कर रहा था, तभी उसने देखा कि एक दो साल की बच्ची को बालकनी के कोने पर लटके देखा और गाड़ी से उतरकर उस तरफ बढ़ा। इसी बीच बच्ची का हाथ फिसला। इमारत के नीचे एक टाइल की छत पर चढ़ गया, ताकि वह बच्ची को पकड़ सके। जैसा कि वीडियो में देखा गया है, बच्चे की मां डरावनी आवाज़ में चिल्लाती है क्योंकि वह बच्‍ची को अपनी पकड़ खो देती है और वह बालकनी से गिर जाती है। सौभाग्‍य से नीचे खड़े डिलीवरी ब्‍वॉय ने उसे पकड़ लिया। यह वीडियो वायरल हो गया और ट्विटर पर पांच लाख से अधिक बार देखा गया।

डिलीवरी ब्‍वॉय न्गुयेन ने कहा कि बच्ची के मुंह से खून रिस रहा था, जब उसने उसे पकड़ा। बच्‍ची को पास के बच्‍चों के अस्पताल ले जाया गया। बच्‍ची के कूल्हे में चोट लगी है। बच्‍ची अभी अस्पताल में है, लेकिन स्वस्थ है। न्गुयेन को भी उसकी बांह में हल्की सी मोच का सामना करना पड़ा।

न्गुयेन ने कहा कि जब घटना हुई तो मैंने ज्यादा नहीं सोचा। बच्चे को देखकर मैंने तुरंत घर पर अपनी बेटी के बारे में सोचा और जल्दी से उसे बचाने की कोशिश की। सब कुछ एक मिनट के भीतर हुआ। मुझे समझ में नहीं आया कि मैं छत को पकड़ सकता हूं। मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि मैंने बच्‍ची की जान बचाई है।