Logo
ब्रेकिंग
रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी पुलिस अधीक्षक के कार्रवाई से पुलिस महकमा में हड़कंप, चार पुलिस कर्मी Suspend रामगढ़ छावनी फुटबॉल मैदान में लगा हस्तशिल्प मेला अब सिर्फ 06फ़रवरी तक l असामाजिक तत्वों ने देवी देवताओं की मूर्ति को किया क्षतिग्रस्त, गुस्साए ग्रामीणों ने किया सड़क जाम l

ईरान के परमाणु ठिकानों के निरीक्षण में यूएन की टीम को सीमित अनुमति

तेहरान। ईरान ने अपने परमाणु ठिकानों के निरीक्षण को पहुंची संयुक्त राष्ट्र की टीम को फिलहाल सीमित अनुमति ही दी है। यहां पर निगरानी करने वाली टीम फिलहाल कोई फोटो भी नहीं खींच सकेगी। इधर संयुक्त राष्ट्र (यूएन) अंतरराष्ट्रीय एटॉमिक एनर्जी एजेंसी (आइएईए) के महानिदेशक राफेल ग्रॉसी ने कहा है कि ईरान के सीमित निरीक्षण की अनुमति के बावजूद उनकी टीम वहां चल रहे कामों की निगरानी कर सकती है। राफेल रविवार को अपनी टीम के साथ यहां पहुंचे हैं। उनका मकसद ईरान के साथ परमाणु कार्यक्रम की निगरानी को लेकर तकनीकी समझ को बनाए रखना है। वे चाहते हैं कि ईरान और संयुक्त राष्ट्र की निगरानी करने वाली संस्था के बीच यह समझ आगामी तीन माह तक बनी रहे।

पत्रकारों से बातचीत करते हुए सीमित निरीक्षण की बात सामने आने के बाद इस बात का संकेत मिल रहे हैं कि फिलहाल हैं कि अमेरिका के जो बाइडन प्रशासन के द्वारा ईरान के साथ परमाणु समझौते पर लौटने के एलान के बाद भी ईरान ने अपने तेवर नरम नहीं किए हैं। वह पहले अपने ऊपर लगाए गए प्रतिबंधों को हटाए जाने की मांग पर अड़ा हुआ है। इसीलिए अब उसके परमाणु प्रतिष्ठानों के निरीक्षण के लिए तेहरान पहुंचे अंतरराष्ट्रीय एटॉमिक एनर्जी एजेंसी (आइएईए) के महानिदेशक राफेल ग्रॉसी और उनकी टीम को फिलहाल ईरान सीमित निरीक्षण की ही अनुमति दे रहा है।

राफेल ग्रासी ने यहां परमाणु ऊर्जा संगठन के मुखिया अली अकबर सालेही से भी मुलाकात की है। ग्रासी ने बताया कि जमीनी स्तर पर जांच में उनके इंस्पेक्टरों की संख्या में कोई कमी नहीं की गई है। इधर ईरान के विदेश मंत्री मुहम्मद जवाद जरीफ ने कहा है कि आइएईए की टीम को कैमरे से फुटेज लेने की अनुमति नहीं दी जाएगी। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि यह कोई अंतिम निर्णय नहीं है और न ही यह अल्टीमेटम है।