Logo
ब्रेकिंग
रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी पुलिस अधीक्षक के कार्रवाई से पुलिस महकमा में हड़कंप, चार पुलिस कर्मी Suspend रामगढ़ छावनी फुटबॉल मैदान में लगा हस्तशिल्प मेला अब सिर्फ 06फ़रवरी तक l असामाजिक तत्वों ने देवी देवताओं की मूर्ति को किया क्षतिग्रस्त, गुस्साए ग्रामीणों ने किया सड़क जाम l

असंतोष को दबाने के लिए इमरान ने कसी एनजीओ की नकेल, लगाया बड़ा आरोप

इस्लामाबाद। अपने खिलाफ मुखर हो रहे असंतोष को दबाने के लिए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) पर बड़ा आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि ये संगठन ना केवल देश के खिलाफ काम कर रहे हैं बल्कि शत्रु देश के एजेंडे को लागू करने की कोशिश कर रहे हैं। वहीं नागरिक अधिकार कार्यकर्ता और संगठनों ने कहा है कि सिविल सोसाइटी के खिलाफ कार्रवाई को अधिकारियों ने मौन स्वीकृत दे रखी है।

बता दें कि पाकिस्तान में पिछले कई वर्षो से स्थानीय अंतरराष्ट्रीय एनजीओ दबाव का सामना कर रहे हैं। पीएम इमरान के सत्ता में आने के बाद इसमें तेजी आ गई है। वर्ष 2018 से लेकर अब तक सरकार 18 अंतरराष्ट्रीय एनजीओ को देश छोड़ने का फरमान सुना चुकी है। पीएम इरान ने पिछले महीने एक कैबिनेट मीटिंग के दौरान एनजीओ को विदेशी फंडिंग किए जाने का मुद्दा उठाया था।

पाकिस्तान में साउथ एशिया पार्टनरशिप के कार्यकारी निदेशक मुहम्मद तहसीन ने कहा, ‘जिस तरह से इमरान सरकार ने कई अंतरराष्ट्रीय एनजीओ पर प्रतिबंध लगाया है और स्थानीय एनजीओ के लिए परेशानी खड़ी कर रही है, वह चिंताजनक है। इस तरह की दिक्कतों का पूर्व में कभी सामना नहीं करना पड़ा। ये सरकार मीडिया को भी नियंत्रित करना चाहती है।

इस बीच वाशिंगटन स्थित वुडरो विल्सन सेंटर फॉर स्कॉलर्स के दक्षिण-एशिया विशेषज्ञ माइकल कुगमैन ने कहा कि जिस देश में सीआइए की मौजूदगी एक लंबे समय तक रही हो, वहां पर एनजीओ द्वारा विदेशों से पैसा लेने का आरोप लगाना बहुत आसान है। पाकिस्तान के अधिकांश लोगों का आज भी मानना है कि ‘सेव द चिल्ड्रन’ नामक अभियान सीआइए द्वारा चलाया गया एक फर्जी टीकाकरण कार्यक्रम था। वास्तव में इसका असली मकसद ओसामा बिन लादेन का पता लगाना था।