Logo
ब्रेकिंग
रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी पुलिस अधीक्षक के कार्रवाई से पुलिस महकमा में हड़कंप, चार पुलिस कर्मी Suspend रामगढ़ छावनी फुटबॉल मैदान में लगा हस्तशिल्प मेला अब सिर्फ 06फ़रवरी तक l असामाजिक तत्वों ने देवी देवताओं की मूर्ति को किया क्षतिग्रस्त, गुस्साए ग्रामीणों ने किया सड़क जाम l

डेमोक्रेटिक नेताओं बड़ा दावा, कैपिटल हिल में नैंसी पेलोसी की हत्या करना चाहती थी भीड़

वाशिंगटन। अमेरिकी संसद में 6 जनवरी को हुई हिंसा को लेकर डेमोक्रेटिक पार्टी के नेताओं ने बड़ा आरोप लगाया है। डेमोक्रेट्स का कहना है कि पुलिस ने हाउस स्पीकर नैन्सी पेलोसी को कैपिटल कॉम्प्लेक्स से इसलिए बाहर निकाला, क्योंकि उन्हें उसकी सुरक्षा का डर था। डेमोक्रेट का कहना है कि संसद पर हमले के ट्रंप निर्दोष दर्शक नहीं थे, बल्कि वह भड़काने वालों के मुखिया थे।

अमेरिकी के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ चलाए जा रहे दूसरे महाभियोग की सुनवाई के दौरान अभियोजकों ने बुधवार को सीनेट में एक 13 मिनट का वीडियो दिखाया। जिसमें पेलोसी के कर्मचारी मदद के लिए आवाज लगाते हुए सुनाई दे रहे थे। इस दौरान एक तस्वीर में भीड़ पेलोसी के कार्यालय के दरवाजे को तोड़ने की कोशिश करती दिख रही है।

प्रतिनिधि सभा के महाभियोग प्रबंधक स्टेसी प्लास्केट का कहना है कि पेलोसी को एक सुरक्षित ठिकाने पर ले जाया गया, क्योंकि कुछ दंगाइयों ने सार्वजनिक रूप से पेलोसी को नुकसान पहुंचाने या मारने का इरादा जताया था। उन्होंने कहा कि अगर दंगाइयों को पेलोसी मिल गई होतीं तो वे उन्हें मार डालते। उन्होंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि डोनाल्ड ट्रंप ने उन्हें इस मिशन पर भेजा था।

बता दें कि ट्रंप पहले ऐसे व्यक्ति हैं जिनके खिलाफ दूसरी बार महाभियोग की सुनवाई हो रही है। इससे पहले राष्ट्रपति के खिलाफ महाभियोग की प्रक्रिया केवल तीन बार हुई, जिनमें एंड्रयू जॉनसन, बिल क्लिंटन और फिर पिछले वर्ष ट्रंप को बरी कर दिया गया था। राष्ट्रपति के पद से हटने के बाद महाभियोग की कार्यवाही का यह पहला मामला है।