Logo
ब्रेकिंग
रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी पुलिस अधीक्षक के कार्रवाई से पुलिस महकमा में हड़कंप, चार पुलिस कर्मी Suspend रामगढ़ छावनी फुटबॉल मैदान में लगा हस्तशिल्प मेला अब सिर्फ 06फ़रवरी तक l असामाजिक तत्वों ने देवी देवताओं की मूर्ति को किया क्षतिग्रस्त, गुस्साए ग्रामीणों ने किया सड़क जाम l

म्यांमार में सैन्य तख्तापलट के बीच हिंसा, हमले में नौ नागरिकों और तीन पुलिसकर्मियों की मौत

यंगून। म्यांमार में सैन्य तख्तापलट के बीच आज हिंसा की एक घटना सामने आई है। यहां एक हमले में 12 लोगों की मौत हो गई है जिसमें 9 नागरिक और तीन पुलिसकर्मी शामिल है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, म्यांमार के स्व-प्रशासित क्षेत्र के पूर्व प्रमुख निकाय सदस्य के काफिले पर एक सशस्त्र हमले में शनिवार को नौ नागरिकों और तीन पुलिसकर्मियों समेत कुल 12 लोगों मौत हो गई।

कमांडर-इन-चीफ ऑफ डिफेंस सर्विस ऑफिस द्वारा जारी एक बयान में भी इस बात की पुष्टि की गई है। उनके मुताबिक, म्यांमार के स्व-प्रशासित क्षेत्र के पूर्व प्रमुख निकाय सदस्य के काफिले पर एक सशस्त्र हमले में कम से कम नौ नागरिक और तीन पुलिसकर्मी मारे गए।

एक बयान के मुताबिक, म्यांमार के कोकांग स्व-प्रशासित क्षेत्र के एक पूर्व केंद्रीय कार्यकारी समिति के सदस्य यू खिन माउंग लविन के नेतृत्व में काफिले पर म्यांमार नेशनल डेमोक्रेटिक अलायंस आर्मी (MNDAA) के 20 सदस्यों के एक समूह ने राजधानी लश्किओ से लउकाई के रास्ते पर हमला किया।

बयान में यह भी बताया गया कि इस हमले में नौ नागरिकों और तीन पुलिस कर्मियों की मौत हो गई और आठ नागरिक और पांच पुलिस कर्मी घायल हो गए। समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने सूचना दी कि इस बीच सेना ने हाल ही में सशस्त्र समूहों के खिलाफ अपने अभियान की निलंबन अवधि 28 फरवरी तक बढ़ा दी है।

म्यांमार 1 फरवरी से ही अशांति में है जब सेना ने आंग सान सू की की लोकतांत्रिक रूप से चुनी गई सरकार के खिलाफ तख्तापलट किया।