Logo
ब्रेकिंग
मॉबली*चिंग के खिलाफ भाकपा-माले ने निकाला विरोध मार्च,किया प्रदर्शन छावनी को किसान सब्जी विक्रेताओं को अस्थाई शिफ्ट करवाना पड़ा भारी,हूआ विरोध व गाली- गलौज सूक्ष्म से मध्यम उद्योगों का विकास हीं देश के विकास का उन्नत मार्ग है बाल गोपाल के नए प्रतिष्ठान का रामगढ़ सुभाषचौक गुरुद्वारा के सामने हुआ शुभारंभ I पोड़ा गेट पर गो*लीबारी में दो गिर*फ्तार, पि*स्टल बरामद Ajsu ने सब्जी विक्रेताओं से ठेकेदार द्वारा मासूल वसूले जाने का किया विरोध l सेनेटरी एवं मोटर आइटम्स के शोरूम दीपक एजेंसी का हूआ शुभारंभ घर का खिड़की तोड़ लाखों रुपए के जेवरात कि चोरी l Ajsu ने किया चोरों के गिरफ्तारी की मांग I 21 जुलाई को रामगढ़ में होगा वैश्य समाज के नवनिर्वाचित सांसद और जनप्रतिनिधियों का अभिनंदन l उपायुक्त ने कि नगर एवं छावनी परिषद द्वारा संचालित योजनाओं की समीक्षा।

Parv Snan 2021: पर्व स्नान पर ट्रेन से आ रहे हैं तो इन बातों का रखें खास ख्याल, वरना नहीं कर पाएंगे हरिद्वार की यात्रा

हरिद्वार।  फरवरी में होने वाले पर्व स्नान पर यदि ट्रेन से हरिद्वार आना है तो आपका रिजर्वेशन होना जरूरी है। आरक्षित टिकट न होने पर आप हरिद्वार की यात्रा नहीं कर सकेंगे। फरवरी में होने वाले पर्व स्नान के लिए रेलवे ने यह व्यवस्था की है। इसके अलावा, स्नान के लिए आने वाले श्रद्धालुओं के पास 72 घंटे की आरटीपीसीआर जांच की निगेटिव रिपोर्ट होना जरूरी है। बस और निजी वाहन से हरिद्वार आने वाले श्रद्धालुओं को राज्य के बार्डर पर आरटीपीसीआर जांच की निगेटिव रिपोर्ट दिखानी होगी। जिन यात्रियों के पास निगेटिव रिपोर्ट नहीं होगी, उन्हें लौटा दिया जाएगा। स्थानीय श्रद्धालुओं को कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट की बाध्यता से मुक्त रखा गया है।

हरिद्वार में होने वाले महाकुंभ के शाही स्नान से पहले 11 फरवरी को मौनी अमावस्या, 16 को वसंत पंचमी और 27 फरवरी को माघ पूर्णिमा का स्नान है। कोविड को देखते हुए स्नान सुरक्षित हो, इसके लिए केंद्र की एसओपी का पालन किया जा रहा है। उत्तराखंड सरकार और रेलवे प्रशासन भी आपस में समन्वय बनाकर काम कर रहे हैं।

उत्तर रेलवे की वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक रेखा शर्मा ने बताया कि स्नान पर्व पर ट्रेन से हरिद्वार आने वाले श्रद्धालुओं को रिजर्वेशन कराकर ही यात्र करनी होगी। उन्होंने बताया कि यात्रियों की सुविधा के लिए रेलवे की ओर से टिकट काउंटरों के पास आश्रय स्थल भी बनाए गए हैं। हरिद्वार में चार और ज्वालापुर में पांच अतिरिक्त टिकट काउंटर बनाए गए हैं।

रेलवे प्रशासन के अनुसार फिलहाल हरिद्वार रूट पर 21 जोड़ी स्पेशल ट्रेन चलाई जा रही हैं। राज्य सरकार की मांग पर अतिरिक्त ट्रेनों का संचालन किया जा सकता है। कोविड प्रोटोकॉल और यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था राज्य सरकार की ओर से की जाएगी।