Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

जल जीवन मिशन के तहत हुआ जिला स्तरीय कार्यशाला का आयोजन

पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के विभागीय सचिव श्री प्रशांत कुमार ने लिया कार्यशाला में हिस्सा

रामगढ़: रामगढ़ शहर के गुरु नानक पब्लिक स्कूल स्थित सभागार में बुधवार को जल जीवन मिशन के तहत जिला स्तरीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस दौरान सबसे पूर्व सचिव, पेयजल एवं स्वच्छता विभाग श्री प्रशांत कुमार, माननीय विधायक, रामगढ़ श्रीमती ममता देवी, माननीय विधायक माण्डु श्री जयप्रकाश भाई पटेल अधीक्षण अभियंता पेयजल स्वच्छता अंचल हज़ारीबाग श्री हरेंद्र कुमार मिश्रा सहित अन्य अतिथियों का स्वागत उपायुक्त, उप विकास आयुक्त, अनुमंडल पदाधिकारी सहित अन्य ने पौधा भेंट कर किया। कार्यशाला का शुभारंभ सभी गणमान्य अतिथियों द्वारा दीप प्रज्वलित कर किया गया।

कार्यशाला के दौरान लोगों को संबोधित करते हुए सचिव पेयजल एवं स्वच्छता विभाग श्री प्रशांत कुमार ने कहा कि जल जीवन मिशन के तहत सरकार का उद्देश्य है कि मार्च 2024 तक राज्य के सभी ग्रामीण परिवारों को नल से शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराया जा सके। जल जीवन मिशन के तहत इस कार्यशाला का आयोजन करने के पीछे विभाग के दो मकसद है पहला जल जीवन मिशन के उद्देश्यों को धरातल पर लाना एवं धरातल पर लाने के क्रम में आने वाली दिक्कतों की समीक्षा कर उन्हें दूर करना। जल जीवन मिशन के उद्देश्यों को सफल करने हेतु तीन चरणों में कार्य किया जाना है। पहला योजना निर्माण, दूसरा संचालन एवं तीसरा संचालन के क्रम में और क्या क्या प्रक्रिया अपनाई जाए ताकि योजना का सफल संचालन किया जाए। अपने संबोधन के दौरान उन्होंने कहा कि पूरे राज्य के सभी जिलों में रामगढ़ जिला जल जीवन मिशन के तहत सबसे आगे है, जल्द से जल्द सभी रामगढ़ जिले वासियों को नल से जल उपलब्ध हो इसके लिए डीएमएफटी के माध्यम से कई योजनाएं स्वीकृत की जा चुकी है। लेकिन हम सभी को ध्यान रखना है कि यह योजना सिर्फ 5 वर्षों के लिए नहीं बल्कि योजना का लक्ष्य लंबे समय तक लोगों को लाभ पहुंचाना है। इसके लिए विभाग द्वारा मनरेगा, 15 वे वित्त आयोग सहित अन्य योजनाओं को संलग्न कर विशेष योजना बनाई जा रही है। उन्होंने कहा कि एक बार जब सभी परिवारों को नल से जल उपलब्ध हो जाएगा उसी वक्त यह भी जरूरी है कि जल संचयन पर भी ध्यान दिया जाए क्योंकि हम सभी जानते हैं कि बिना जल को संचय किये बिना हम लंबे समय तक लोगों को लाभ नहीं दे पाएंगे। इसके लिए उन्होंने सभी जनप्रतिनिधियों से जल जीवन मिशन के उद्देश्यों का व्यापक प्रचार-प्रसार करने एवं सभी को अपने घर में सोख्ता निर्माण कराने तथा वर्षा जल को संचय करने पर बल दिया।

अपने संबोधन के दौरान माननीय विधायक, रामगढ़ श्रीमती ममता देवी ने कहा की सभी ग्रामीणों को जल उपलब्ध हो यह आज के दौर में सबसे प्रमुख विषय है। इसी उद्देश्य से आज इस कार्यशाला का आयोजन किया गया है। आप सभी जो भी बातें इस कार्यशाला से सीखे उन्हें हर एक ग्रामीण तक पहुंचाने की कोशिश करें ताकि जल जीवन मिशन का उद्देश्य पूरा हो सके। इस दौरान उन्होंने कहा कि कई बार हम देखते हैं कि गांव में जिला प्रशासन द्वारा चापा नल का निर्माण कराया जाता है, लेकिन उसके बगल में सोख्ता निर्माण ना करने के कारण कुछ वर्षों के बाद चापा नल सूख जाता है। उन्होंने कहा कि इस तरह की कई शिकायतें ग्रामीणों द्वारा उन तक पहुंचाई गई है जिसके लिए उन्होंने जिला प्रशासन को उनकी मरम्मती हेतु सूचना दी है। लेकिन इसके साथ ही हम सभी को भी जल संचयन पर जोर देना है, ताकि हम लंबे समय तक योजना का लाभ ले सके।

अपने संबोधन के दौरान माननीय विधायक मांडू विधानसभा क्षेत्र श्री जयप्रकाश भाई पटेल ने कहा कि पूरे विश्व में अपार मात्रा में जल उपलब्ध है, लेकिन इस्तेमाल में लाए जाने वाले जल की मात्रा बेहद कम है और जिस प्रकार हम देखते हैं कि कई लोगों द्वारा जल का दुरुपयोग किया जाता है वह बेहद दुखद है। हम सभी को प्रण लेना चाहिए कि हम जल का दुरुपयोग नहीं करेंगे एवं अन्य को भी ऐसा नहीं करने देंगे। मैं चाहूंगा कि जिस उद्देश से हम सब यहां इकट्ठा हुए हैं वह पूरा हो एवं लोगों को नल के माध्यम से जल भी उपलब्ध हो और वे उसका संचयन भी करें।

कार्यक्रम के दौरान उपायुक्त श्री संदीप सिंह ने कहा कि पूरे जिले में 154000 लक्ष्य के विरुद्ध लगभग 30000 परिवारों को नल के माध्यम से जल उपलब्ध कराया जा चुका है, शेष परिवारों को नल से जल उपलब्ध कराने हेतु तीव्र गति से कार्य किया जा रहा है। जल्द ही सभी तक नल से जल पहुंचाया जाएगा। इस दौरान उन्होंने कहा कि जल जीवन मिशन के तहत जिला प्रशासन द्वारा पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के माध्यम से पुनः रामगढ़ जिले के विभिन्न क्षेत्रों का सर्वे कराया जा रहा है और यह सुनिश्चित किया जा रहा है एक भी परिवार इस योजना से वंचित ना रहे, लेकिन योजना का लाभ लंबे समय तक लोगों को मिले इसके लिए यह बहुत जरूरी है कि लोगों की इस योजना में भागीदारी हो। इसके लिए प्रत्येक कनेक्शन मासिक किराया ₹62 निर्धारित किया गया है।

उपायुक्त ने कार्यशाला में मौजूद सभी जनप्रतिनिधियों से अपील की कि वे ग्रामीणों को प्रतिमाह ₹62 की राशि का भुगतान करने के प्रति जागरूक करे ताकि अगर भविष्य में कभी किसी भी जलापूर्ति योजना में कुछ खराबी है तो तुरंत उसकी मरम्मती कर लोगों को लाभ दिया जा सके।कार्यशाला के दौरान वॉश विशेषज्ञ यूनिसेफ श्री कुमार प्रेमचंद ने सभी से कहा कि रामगढ़ जिले में कम समय में ही जल जीवन मिशन के तहत सभी ग्रामीण परिवारों को नल से जल उपलब्ध कराने की योजना पूरी होने की पूरी संभावना है। ऐसा इसलिए है क्योंकि देश के पूर्वी राज्यों में रामगढ़ जिले का दुलमी प्रखंड सबसे पहले खुले में शौच मुक्त हुआ था। जिस प्रकार से रामगढ़ जिले में जल जीवन मिशन के तहत कार्य हुआ है और डीएमएफटी के माध्यम से योजनाएं ली गई है इसमें कोई दो राय नहीं की रामगढ़ जिला इस बार भी सबसे अव्वल साबित होगा।

दो चरणों में चली कार्यशाला के दौरान यूनिसेफ रांची की राज्य वॉश कंसलटेंट श्री कृष्णा कुमार एवं यंग प्रोफेशनल यूनिसेफ श्री सूरज कुमार द्वारा मौजूद सभी जनप्रतिनिधियों सहित अन्य को पीपीटी के माध्यम से जल जीवन मिशन के उद्देश्यों, जल संचयन की विधियों आदि के प्रति विस्तार से जानकारी दी गई।

कार्यशाला के दौरान सचिव पेयजल एवं स्वच्छता विभाग ने सभी को पानी बचाने और उसके विवेकपूर्ण उपयोग करने, जल का समुचित उपयोग करने, पानी की हर एक बूंद का संचयन एवं कैच द रेन अभियान को बढ़ावा देने, पानी को एक अनमोल संपदा मानते हुए ही उसका उपयोग करने, खुद और अपने परिवार के अन्य सदस्यों, मित्रों और पड़ोसियों को भी जल का विवेकपूर्ण उपयोग करने और उसे व्यर्थ नहीं करने के प्रति प्रेरित करने की शपथ दिलाई।

कार्यशाला के दौरान उपायुक्त, उप विकास आयुक्त एवं अनुमंडल पदाधिकारी ने पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सचिव, माननीय विधायक रामगढ़ एवं वॉश विशेषज्ञ यूनिसेफ को शॉल ओढ़ाते हुए स्मृति चिन्ह भेंट की।

कार्यशाला के प्रथम चरण का समापन करते हुए उप विकास आयुक्त श्री नागेंद्र कुमार सिन्हा ने सचिव, पेयजल एवं स्वच्छता विभाग, माननीय विधायक रामगढ़ एवं मांडू विधानसभा क्षेत्र वॉश विशेषज्ञ यूनिसेफ, अधीक्षण अभियंता पेयजल स्वच्छता अंचल हजारीबाग सहित सभी जनप्रतिनिधियों आदि को कार्यशाला में भाग लेने हेतु धन्यवाद दिया।

उपरोक्त के अलावा कार्यशाला के दौरान कार्यपालक अभियंता पेयजल एवं स्वच्छता विभाग, सहायक अभियंता पेयजल एवं स्वच्छता विभाग, सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी, सहायक जनसंपर्क पदाधिकारी, पेयजल स्वछता विभाग रामगढ़ के जिला समन्वयक एनआरडीडब्लूपी(जेजेम), जिला समंवयक स्वच्छ भारत मिसन ग्रामीण, जनप्रतिनिधियों सहित अन्य उपस्थित थे।