Logo
ब्रेकिंग
हाथी का दांत को वन विभाग के अधिकारी ने किया जप्त। नवरात्रि के उपलक्ष में भव्य डांडिया रास का 24 सितंबर को होगा आयोजन । हजारीबाग में 30 फीट गहरी नदी में पलटी बस 07 लोगों की हुई मौत, गैस कटर से काटकर शव को निकाला गया। दो नाबालिग लड़की के दुष्कर्म मामले में फरार दोनो आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शांतनु मिश्रा राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष मनोनीत मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे नवनियुक्त जिला परिषद अध्यक्षों ने मुलाक... प्रखंड सह अंचल कार्यालय, रामगढ़ का उपायुक्त ने किया निरीक्षण पल्स पोलियो अभियान का रामगढ़ उपायुक्त ने किया शुभारंभ MRP से ज्यादा में शराब बेचने वालों की खैर नहीं, उपायुक्त ने दिया जांच अभियान चलाने का निर्देश । हेमंत कैबिनेट का बड़ा फैसला- 1932 के खतियानधारी ही झारखंडी,OBC को 27 प्रतिशत आरक्षण, जानें अन्य फैसल...

अचानक काबुल पहुंचे अजीत डोभाल, आपसी हितों और आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में सहयोग पर हुई वार्ता

नई दिल्ली। अफगानिस्तान में चल रही शांति वार्ता के अहम मुकाम पर पहुंचने के समय ही भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल बुधवार को अचानक दो दिवसीय यात्रा पर काबुल पहुंचे। उनके साथ उच्चस्तरीय प्रतिनिधिमंडल भी गया है। उन्होंने अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी समेत शीर्ष नेतृत्व के साथ वहां के हालात, आपसी रणनीतिक हितों, आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में सहयोग और अफगानिस्तान में शांति प्रक्रिया स्थापित करने पर काफी महत्वपूर्ण विचार विमर्श किया।

अफगानी राष्ट्रपति समेत शीर्ष नेतृत्व से की मुलाकात

अफगानी राष्ट्रपति भवन की तरफ से जारी सूचना में बताया गया है कि दोनों के बीच आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में सहयोग को और मजबूत करने और अफगानिस्तान में शांति स्थापित करने के उद्देश्य से क्षेत्रीय सहमति बनाने जैसे मुद्दों पर बातचीत हुई। डोभाल की यह यात्रा इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि भारत को तालिबान प्रतिबंध से जुड़ी संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में गठित समिति का अध्यक्ष बनाया गया है। लिहाजा शांति वार्ता को आगे बढ़ाने के लिहाज से भारत की भूमिका महत्वपूर्ण हो गई है। अफगानिस्तान के राष्ट्रपति ने डोभाल से कहा है कि नाटो और अमेरिका के साथ मिलकर अफगानिस्तान व भारत आतंकवाद के खिलाफ और ज्यादा सफलता हासिल कर सकते हैं।

डोभाल की अफगानिस्तान के एनएसए हमदुल्लाह मोहिब से भी मुलाकात हुई। बाद में डोभाल ने अफगानिस्तान में हाई काउंसिल फॉर द नेशनल रिकांसिलिएशन के चेयरमैन डा. अब्दुल्ला अब्दुल्ला से भी मुलाकात की। बाद में डा. अब्दुल्ला ने बताया कि शांति वार्ता के साथ ही डोभाल से अफगानिस्तान में स्थायी शांति स्थापित करने में भारत की भूमिका पर विमर्श हुआ।