Logo
ब्रेकिंग
मॉबली*चिंग के खिलाफ भाकपा-माले ने निकाला विरोध मार्च,किया प्रदर्शन छावनी को किसान सब्जी विक्रेताओं को अस्थाई शिफ्ट करवाना पड़ा भारी,हूआ विरोध व गाली- गलौज सूक्ष्म से मध्यम उद्योगों का विकास हीं देश के विकास का उन्नत मार्ग है बाल गोपाल के नए प्रतिष्ठान का रामगढ़ सुभाषचौक गुरुद्वारा के सामने हुआ शुभारंभ I पोड़ा गेट पर गो*लीबारी में दो गिर*फ्तार, पि*स्टल बरामद Ajsu ने सब्जी विक्रेताओं से ठेकेदार द्वारा मासूल वसूले जाने का किया विरोध l सेनेटरी एवं मोटर आइटम्स के शोरूम दीपक एजेंसी का हूआ शुभारंभ घर का खिड़की तोड़ लाखों रुपए के जेवरात कि चोरी l Ajsu ने किया चोरों के गिरफ्तारी की मांग I 21 जुलाई को रामगढ़ में होगा वैश्य समाज के नवनिर्वाचित सांसद और जनप्रतिनिधियों का अभिनंदन l उपायुक्त ने कि नगर एवं छावनी परिषद द्वारा संचालित योजनाओं की समीक्षा।

सुवेंदु अधिकारी ने कहा- भाजपा की रैलियों में भीड़ देखकर तृणमूल का खराब हो गया है दिमाग

कोलकाता। तृणमूल कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के पूर्व मंत्री सुवेंदु अधिकारी की पुरुलिया में सभा के दौरान तृणमूल समर्थकों ने प्रदर्शन किया। रविवार दोपहर को पुरुलिया के मैदान में सुवेंदु अधिकारी की सभा चल रही थी। उसी समय एक काली गाड़ी से कुछ तृणमूल समर्थक पहुंचें और तृणमूल का झंडा लहराने लगे और विरोध में नारेबाजी करने लगे। इसे लेकर भाजपा की सभा में अफरा-तफरा मच गई।लगभग पांच मिनट तक सभा में अव्यवस्था बनी रही। बाद में सुवेंदु अधिकारी के हस्तक्षेप के बाद अव्यवस्था खत्म हुई।

बता दें कि इसके पहले भी नंदीग्राम की सभा में इसी तरह की अव्यवस्था पैदा हुई थी। उस सभा में भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, दिलीप घोष और मुकुल रॉय सहित आला नेता उपस्थित थे।

चुनाव में पोलिंग एजेंट नहीं दे पाएगी तृणमूल

सुवेंदु अधिकारी ने सभा में अव्यवस्था फैलाने पर तृणमूल और पुलिस पर हमला बोलते हुए कहा, “ सभा में भीड़ देखकर तृणमूल का दिमाग खराब हो गया है। कुछ दिनों में मॉडल कोड ऑफ कंडक्ट लागू होगा, तो तृणमूल एक पोलिंग एजेंट भी नहीं दे पाएगी। पुलिस को सभा की पूरी सूचना दी गई थी, लेकिन ‘भाइपो’ की तोलाबाज पुलिस कहीं दिखाई नहीं दे रही है।

लोकसभा में हॉफ और विधानसभा में साफ होगी तृणमूल

उन्होंने कहा, “तृणमूल पार्टी नहीं, एक कंपनी में बदल गई है। यह ‘पिशी’ और ‘भाइपो’ डेढ़ लोगों की कंपनी है। यह गांव-जिले और शहर की लड़ाई है। सरकार में 30 मंत्री हैं। इनमें 20 कोलकाता के हैं और दक्षिण कोलकाता के मंत्रियों के पास ही सारे विभाग हैं। गांव के लोगों ने क्या कसूर किया है? बंगाल में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनेगी और तृणमूल लोकसभा चुनाव में हॉफ हुई थी। विधानसभा चुनाव में साफ हो जाएगी।”