Logo
ब्रेकिंग
हाथी का दांत को वन विभाग के अधिकारी ने किया जप्त। नवरात्रि के उपलक्ष में भव्य डांडिया रास का 24 सितंबर को होगा आयोजन । हजारीबाग में 30 फीट गहरी नदी में पलटी बस 07 लोगों की हुई मौत, गैस कटर से काटकर शव को निकाला गया। दो नाबालिग लड़की के दुष्कर्म मामले में फरार दोनो आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शांतनु मिश्रा राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष मनोनीत मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे नवनियुक्त जिला परिषद अध्यक्षों ने मुलाक... प्रखंड सह अंचल कार्यालय, रामगढ़ का उपायुक्त ने किया निरीक्षण पल्स पोलियो अभियान का रामगढ़ उपायुक्त ने किया शुभारंभ MRP से ज्यादा में शराब बेचने वालों की खैर नहीं, उपायुक्त ने दिया जांच अभियान चलाने का निर्देश । हेमंत कैबिनेट का बड़ा फैसला- 1932 के खतियानधारी ही झारखंडी,OBC को 27 प्रतिशत आरक्षण, जानें अन्य फैसल...

लेबर पार्टी ने खालिस्तान समर्थक की उम्मीदवारी की रद, दबिंदरजीत पर आतंकियों से रिश्ते रखने का आरोप

लंदन। ब्रिटेन में विपक्षी लेबर पार्टी के नेता कीर स्टार्मर ने दबिंदरजीत सिंह सिद्धू को पार्टी का उम्मीदवार बनाने का फैसला रद कर दिया है। दबिंदरजीत को खालिस्तान समर्थक अलगाववादी माना जाता है। उन पर आतंकियों से रिश्ते रखने का भी आरोप है। दबिंदर ने खुद पर लगे आरोप को गलत बताया है।

संसद में लेबर पार्टी के प्रतिनिधि बनने के लिए घोषित सूची से नाम हटाया गया

डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में अलग खालिस्तान राष्ट्र बनाने की मांग से जुड़े रहे दबिंदरजीत सिंह का नाम संसद में लेबर पार्टी के प्रतिनिधि बनने के लिए घोषित होने वाले छह नामों में शामिल था, लेकिन पार्टी नेता कीर स्टार्मर ने उनका नाम उस सूची से हटा दिया। यह कदम हाउस ऑफ लॉर्ड्स अप्वाइंटमेंट्स कमीशन के सुरक्षा संबंधी सुझाव के बाद उठाया गया।

प्रतिबंधित संगठन के सदस्य थे दबिंदरजीत

लेबर पार्टी के सूत्रों के अनुसार दबिंदर के संबंध में एक सूचना यह भी प्राप्त हुई थी कि वह 2008 में इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन (आइएसवाईएफ) के सदस्य थे। इस संगठन पर गृह मंत्रालय की चेतावनी के बाद प्रतिबंध लगा दिया गया था। चेतावनी में कहा गया था कि इस संगठन के सदस्य राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा पहुंचा सकते हैं।

लेबर पार्टी के एक सांसद ने कहा- दबिंदर का मामला निपटाया जाना चाहिए

यह सूचना आने के बाद दबिंदर को जानने वाले लेबर पार्टी के एक सांसद ने कहा, उनका (दबिंदर का) का मामला निपटाया जाना चाहिए। जबकि दबिंदर के एक मित्र ने उनके आइएसवाईएफ का सदस्य होने से इन्कार किया। कहा कि वह शांतिपूर्ण ढंग से खालिस्तान के लिए चलने वाले आंदोलन का समर्थन करते हैं, न कि हिंसात्मक तरीके से। सिख फेडरेशन यूके ने दबिंदर के खिलाफ घृणास्पद प्रचार की निंदा की है।