Logo
ब्रेकिंग
हाथी का दांत को वन विभाग के अधिकारी ने किया जप्त। नवरात्रि के उपलक्ष में भव्य डांडिया रास का 24 सितंबर को होगा आयोजन । हजारीबाग में 30 फीट गहरी नदी में पलटी बस 07 लोगों की हुई मौत, गैस कटर से काटकर शव को निकाला गया। दो नाबालिग लड़की के दुष्कर्म मामले में फरार दोनो आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शांतनु मिश्रा राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष मनोनीत मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे नवनियुक्त जिला परिषद अध्यक्षों ने मुलाक... प्रखंड सह अंचल कार्यालय, रामगढ़ का उपायुक्त ने किया निरीक्षण पल्स पोलियो अभियान का रामगढ़ उपायुक्त ने किया शुभारंभ MRP से ज्यादा में शराब बेचने वालों की खैर नहीं, उपायुक्त ने दिया जांच अभियान चलाने का निर्देश । हेमंत कैबिनेट का बड़ा फैसला- 1932 के खतियानधारी ही झारखंडी,OBC को 27 प्रतिशत आरक्षण, जानें अन्य फैसल...

करीमा की हत्या में पाक के पंजाब प्रांत में भी प्रदर्शन, उच्चस्तरीय जांच के लिए UN को लिखा पत्र

इस्लामाबाद। बलूचिस्तान की महिला एक्टिविस्ट और प्रमुख नेता करीमा बलूच की हत्या के विरोध में पाकिस्तान में अब बलूचिस्तान के साथ ही अन्य अन्य प्रांतों में भी प्रदर्शन शुरू हो गए हैं। पंजाब के डेरा गाजी खान में हजारों लोगों ने प्रदर्शन किया और करीमा के हत्यारों को पकड़ने की मांग की।

करीमा बलूच 2016 में पाकिस्तान से निर्वासित होकर कनाडा के टोरंटो में रह रही थीं। वह लंबे समय से पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी के निशाने पर थीं। उनको लगातार धमकी मिल रही थी। पिछले दिनों उनका शव झील में पाया गया। करीमा की हत्या में पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी का हाथ बताया गया है।

डेरा गाजी खान में प्रदर्शन के दौरान हाथों में तख्तियां लेकर लोग चल रहे थे। जिस पर लिखा था ‘करीमा बलूचों के विरोध की आत्मा थी।’ इस दौरान बलूच यकजेहती कमेटी (बीवाइसी) ने पर्चे भी बांटे। बलूच एक्शन कमेटी के नेता आसिफ बलूच ने कहा है कि एक करीमा की सुनियोजित हत्या के बाद अब हजारों करीमा पैदा होंगी। पाक सरकार और सेना के अत्याचारों के खिलाफ आवाज उठना बंद नहीं होगा

बलूच मानवाधिकार काउंसिल ने संयुक्त राष्ट्र से करीमा की हत्या में निष्पक्ष जांच की मांग की है। इस संबध में संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुतेरस को पत्र लिखा गया है। विश्व के पचास से ज्यादा पत्रकार और एक्टिविस्ट ने कनाडा की सरकार से उच्चस्तरीय जांच की मांग की है।