Logo
ब्रेकिंग
मॉबली*चिंग के खिलाफ भाकपा-माले ने निकाला विरोध मार्च,किया प्रदर्शन छावनी को किसान सब्जी विक्रेताओं को अस्थाई शिफ्ट करवाना पड़ा भारी,हूआ विरोध व गाली- गलौज सूक्ष्म से मध्यम उद्योगों का विकास हीं देश के विकास का उन्नत मार्ग है बाल गोपाल के नए प्रतिष्ठान का रामगढ़ सुभाषचौक गुरुद्वारा के सामने हुआ शुभारंभ I पोड़ा गेट पर गो*लीबारी में दो गिर*फ्तार, पि*स्टल बरामद Ajsu ने सब्जी विक्रेताओं से ठेकेदार द्वारा मासूल वसूले जाने का किया विरोध l सेनेटरी एवं मोटर आइटम्स के शोरूम दीपक एजेंसी का हूआ शुभारंभ घर का खिड़की तोड़ लाखों रुपए के जेवरात कि चोरी l Ajsu ने किया चोरों के गिरफ्तारी की मांग I 21 जुलाई को रामगढ़ में होगा वैश्य समाज के नवनिर्वाचित सांसद और जनप्रतिनिधियों का अभिनंदन l उपायुक्त ने कि नगर एवं छावनी परिषद द्वारा संचालित योजनाओं की समीक्षा।

दर्दनाक- कोरोना ने किया अपनों को पराया, बुजुर्गों को अस्पतालों में अकेला छोड़कर जा रहे परिजन

कोरोना काल ने लोगों को बहुत कुछ दिखाया है। कहीं अपने छूटे तो कहीं अपनों ने ही छोड़ दिया। महाराष्ट्र के औरंगाबाद स्थित सरकारी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (GMCH) के अधिकारियों ने बताया कि इलाज के लिए बुजुर्ग व्यक्तियों को यहां लाने के बाद परिजनों द्वारा उन्हें यहीं पर अकेला छोड़कर जाने की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं। अस्पताल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि महाराष्ट्र के मराठवाड़ा क्षेत्र में औरंगाबाद का GMCH सबसे बड़े स्वास्थ्य संस्थानों में से एक है और क्षेत्र के आठ जिलों के लोग यहां उपचार के लिए आते हैं।

GMCH के अधीक्षक डॉ. सुरेश हारबड़े ने कहा कि कोरोना वायरस के कारण लगाए गए लॉकडाउन के शुरुआती दौर में यहां ऐसे बुजुर्गों की संख्या बढ़ गई जिन्हें उनके परिजन अकेला छोड़ गए। उन्होंने कहा कि हमने औरंगाबाद नगर निगम के साथ मिलकर अभियान चलाया और ऐसे कई बुजुर्गों को स्थानीय आश्रय गृहों में भेजा। हालांकि उनमें से कई वहां से भी चले गए।

डॉ. हारबड़े ने बताया कि परिवार द्वारा छोड़े गए बुजुर्ग अस्पताल परिसर, फुटपाथ तथा अस्पताल के इर्द-गिर्द ऐसे स्थानों पर रहने लगते हैं जहां उन्हें भोजन आसानी से मिल सके। अधिकारी ने बताया कि मरीजों के साथ कोई देखरेख करने वाला न भी हो तो भी उन्हें अस्पताल में भर्ती किया जाता है। उन्होंने कहा कि हमारे कर्मचारी और सामाजिक कार्यकर्त्ता ऐसे लोगों का ध्यान रखते हैं। जब हम उनके परिजनों से संपर्क करने की कोशिश करते हैं तो कई बार उनकी ओर से नकारात्मक प्रतिक्रिया मिलती है। कई मामलों में ऐसा देखा गया है।