Logo
ब्रेकिंग
रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी पुलिस अधीक्षक के कार्रवाई से पुलिस महकमा में हड़कंप, चार पुलिस कर्मी Suspend रामगढ़ छावनी फुटबॉल मैदान में लगा हस्तशिल्प मेला अब सिर्फ 06फ़रवरी तक l असामाजिक तत्वों ने देवी देवताओं की मूर्ति को किया क्षतिग्रस्त, गुस्साए ग्रामीणों ने किया सड़क जाम l

बसपा मुखिया मायावती की मुजफ्फरनगर दंगा में दर्ज सभी केस वापस लेने की मांग

लखनऊ। पश्चिमी उत्तर प्रदेश को बेहद गमगीन करने वाले मुजफ्फरनगर दंगा केस पर करीब सात वर्ष बाद राजनीति फिर गरमा गई है। मुजफ्फरनगर दंगा में योगी आदित्यनाथ सरकार में दो मंत्रियों तथा भाजपा विधायक के खिलाफ में दर्ज सभी केस वापस होने की प्रक्रिया के बीच में ही बहुजन समाज पार्टी की मुखिया ने शुक्रवार को एक ट्वीट किया है। इसमें मायावती ने सभी के खिलाफ दर्ज केस वापस लेने की मांग की है।

उत्तर प्रदेश सरकार के तीन लोगों के खिलाफ केस वापस लेने के फैसले ने प्रदेश के सियासी पारे को बढ़ा दिया है। बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) ने अब दर्ज सभी मुकदमे वापस लेने की मांग की है। मायावती ने साफ कहा है कि सरकार जिस तरह से भाजपा नेताओं पर दर्ज केस वापस ले रही है, उसी तरह से सभी के खिलाफ दर्ज केस वापस ले। बसपा की मुखिया मायावती ने शुक्रवार को ट्वीट करके अपनी यह मांग रखी है। मायावती ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में भाजपा के लोगों के ऊपर राजनैतिक द्वेष की भावना से दर्ज मुकदमे वापिस होने के साथ ही, सभी विपक्षी पाॢटयो के लोगों पर भी ऐसे दर्ज मुकदमे भी जरूर वापिस होने चाहिए। मुजफ्फनगर दंगों को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार ने काफी अहम फैसला किया है। सरकारी वकील ने कोर्ट में अर्जी देकर योगी आदित्यनाथ सरकार में कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा, राज्यमंत्री कपिलदेव अग्रवाल तथा फायरब्रांड विधायक संगीत सोम के खिलाफ केस वापस लेने की अपील की है।

मुजफ्फरनगर में दंगा भड़काने के मामले में सुरेश राणा, संगीत सोम और कपिलदेव अग्रवाल के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। इन तीनों नेताओं पर भड़काऊ भाषण, धारा 144 का उल्लंघन, आगजनी, तोडफ़ोड़ की धाराएं लगाई गई थी। गौरतलब है कि मुजफ्फरनगर में सात सितंबर 2013 में नंगला मंदौड़ में महापंचायत हुई थी। यह महापंचायत मुजफ्फरनगर में सचिन और गौरव की हत्या के बाद बुलाई गई थी। अब आरोप है कि इस महापंचायत के बाद मुजफ्फरनगर में दंगा भड़क गया था। मुजफ्फरनगर दंगों में 65 लोगों की मौत हुई थी और मुजफ्फरनगर के साथ ही शामली व बागपत में बड़ी संख्या में लोग अपना घर छोड़कर चले गए थे।