Logo
ब्रेकिंग
आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी

ओली से नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के संसदीय दल के नेता का ओहदा भी छिना, अब प्रचंड को दी गई जिम्‍मेदारी

काठमांडू। नेपाल में सियासी घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है। पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ की अगुवाई वाले खेमे (Prachanda-led faction) ने केपी शर्मा ओली से सत्तारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के संसदीय दल के नेता के दर्जे को छीन लिया है। समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक, अब ओली की जगह  पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ को संसदीय दल का नेता चुना गया है। पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ की अगुवाई वाले खेमे की बैठक में सर्वसम्‍मति से यह फैसला लिया गया।

अभी एक दिन पहले ही पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ नीत खेमे (Prachanda-led faction) ने केंद्रीय समिति की बैठक के बाद पीएम केपी शर्मा ओली को सत्तारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (Nepal Communist Party, NCP) के अध्यक्ष पद से हटा दिया था। मालूम हो कि इससे पहले ओली (KP Sharma Oli) ने संगठन पर अपनी पकड़ को मजबूत करने की मंशा से मंगलवार को पार्टी की आम सभा (General Assembly) के आयोजन के लिए 1199 सदस्यीय नई समिति गठित की थी।

समाचार एजेंसी पीटीआइ के मुताबिक, प्रचंड नीत खेमे ने केंद्रीय समिति की बैठक में वरिष्ठ नेता माधव कुमार नेपाल (Madhav Kumar Nepal) को सर्वसम्मति से पार्टी का दूसरा अध्यक्ष नियुक्त किया था। प्रचंड नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (Nepal Communist Party, NCP) के पहले अध्यक्ष हैं। अब पार्टी के नियम के अनुसार प्रचंड और माधव कुमार नेपाल बारी-बारी से बैठकों की अध्यक्षता करेंगे।

रिपोर्ट के मुताबिक, पार्टी (Nepal Communist Party, NCP) के खिलाफ जाने के आरोपों के चलते ही ओली के खिलाफ उक्‍त कार्रवाई की गई है। उल्‍लेखनीय है कि हाल ही में ओली ने अपने प्रतिद्वंद्वियों को चौंकाते हुए रविवार को राष्ट्रपति से संसद भंग करने की सिफारिश कर दी थी। वहीं राष्ट्रपति ने आनन फानन में इस सिफारिश पर मुहर लगाते हुए चनावों की घोषणा कर दी थी। मालूम हो कि ओली और पूर्व प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल प्रचंड के बीच लंबे समय से टकराव चल रहा है। इसके चलते नेपाल में नित नए सियासी वाकए हो रहे हैं…