Patratu शिलापट से नाम हटाने का मामला अब तूल पकड़ने लगा, राजनीतिक माहौल हुआ गर्म

सिलावट से नाम हटाने वाले की गिरफ्तारी की कर रहे है मांग

yamaha

पतरातू में शिलापट से नाम हटाने का मामला अब तूल पकड़ने लगा है इसको लेकर राजनीतिक माहौल गर्म हो गई है । शिलापट से नाम मिटाने को लेकर भाजपा और आजसू पार्टी अब मिलकर विरोध कर रही है । उन्होंने जिला प्रशासन को उग्र आंदोलन की चेतावनी देते हुए सिलावट से नाम हटाने वाले की 24 घण्टे में अंदर गिरफ्तारी की मांग कर रहे है मांग ।

इस सिलावट का प्रधानमंत्री ने किया था ऑनलाइन शिलान्यास : विजय साहू

आपको बता दें कि पतरातू प्रखंड अंतर्गत पालू पंचायत के टॉकीसूद में मुख्यमंत्री ग्रामीण पाइप जलापूर्ति योजना के तहत करीब 30 करोड़ पचास लाख की लागत से बनने वाले वाटर फिल्टर प्लांट का भूमि पूजन बड़कागांव विधानसभा की विधायक अंबा प्रसाद के द्वारा रविवार को किया गया था

 

वही इस शिलान्यास कार्यक्रम के सिलापट से नाम मिटाने का एक वीडियो वायरल हुआ जिस पर भारतीय जनता पार्टी और आजसू के कार्यकर्ताओं ने शीला पट से नाम मिटाया जाने का विरोध करना प्रारंभ कर दिया और मामला धीरे-धीरे तूल पकड़ने लगा। इस संबंध में भारतीय जनता पार्टी और आजसू पार्टी की पदाधिकारियों की एक विशेष बैठक बुलाई गई । जहां शीलापट से नाम मिटाया जाने के विरोध का स्वर फूटा।

इस दरमियान वहां मौजूद आजसू पार्टी के जिलाध्यक्ष विजय साहू और पतरातू प्रखंड के भाजपा नेता किशोर महतो ने इस पूरे मामले के बारे में बताते हुए कहां कि आज जिस स्थल पर विधायक अंबा प्रसाद द्वारा टॉकीसूद गांव में वाटर फिल्टर प्लांट का भूमि पूजन किया गया। उसका ऑनलाइन शिलान्यास बीते 17 फरवरी 2019 को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा किया गया था। इससे संबंधित शीला पट भी निर्माण स्थल के पास मौजूद था ।

इसमें तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुवर दास, तत्कालीन पेयजल व स्वच्छता मंत्री चंद्र प्रकाश चौधरी, सांसद जयंत सिंहा व तत्कालीन विधायक निर्मला देवी का नाम लिखा हुआ था मगर इस भूमि पूजन कार्यक्रम के दौरान विधायक के समर्थकों ने शीला पट से रघुवर दास जयंत सिन्हा व चंद्र प्रकाश चौधरी का नाम पत्थर से रगड़ कर मिटा दिया । जिससे जुड़ा वीडियो भी वायरल हो रहा है भाजपा और आजसू पार्टी अब मिलकर विरोध कर रही है और प्रशासन से 24 घंटे के अंदर नाम मिटानेवाले को गिरिफ्तार करने की मांग करते हुए पुरजोर आंदोलन की चेतावनी भी दी है।

विरोधियों का काम ही है विरोध करना: विधायक

इस मामले में विधायक अम्बा प्रसाद का कहना है कि नियमतः जो स्थानीय विधायक होता है नाम उसका होना चाहिए उनलोगों का काम ही विरोध करना है। पतरातू में 30 करोड़ रुपये से बनने वाली यह वाटर प्लांट से पतरातू क्षेत्र के पांच हज़ार घरों में पानी सप्लाई होनी है।

raja moter
Leave A Reply

Your email address will not be published.