Logo
ब्रेकिंग
Income tax raid फर्नीचर व गद्दे में थीं नोटों की गड्डियां, यहां IT वालो को मिली अरबों की संपत्ति! बाइक चोरी करने वाले impossible गैंग का भंडाफोड़, पांच अपरा'धी गिरफ्तार।। रामगढ़ की बेटी महिमा को पत्रकारिता में अच्छा प्रदर्शन के लिए किया गया सम्मानित Bjp प्रत्याशी ढुल्लु महतो के समर्थन में विधायक सरयू राय के विरुद्ध गोलबंद हूआ झारखंड वैश्य समाज l हजारीबाग लोकसभा इंडिया प्रत्याशी जेपी पटेल ने किया मां छिनमस्तिका की पूजा अर्चना l गांजा तस्कर के साथ मोटासाइकिल चोर को रामगढ़ पुलिस ने किया गिरफ्तार स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l

Bokaro अधिवक्ताओं ने बार भवन के मुख्य गेट के समक्ष किया प्रदर्शन

बार भवन खोलने और न्यायलय का कार्य शुरू करने की कर रहे है मांग

बोकारो बार भवन खोलने की मांग और पूर्व की भांति न्यायलय का कार्य शुरू करने को लेकर बोकारो के अधिवक्ता ददन कुमार की अगुवाई में अधिवक्ताओं ने बार भवन के मुख्य गेट के सामने प्रदर्शन किया ।

इस दौरान अधिवक्ताओं ने संकेतिक रूप से भारत सरकार, राज्य सरकार और चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया से अपनी मांगों को रखते हुए प्रोटेस्ट किया ।अधिवक्ता ददन सिंह ने कहा कि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने न्यायालय का काम पूर्व की भातीं सुरु कर दिया है। इसके बावजूद झारखण्ड में इस पर कोई फैसला नहीं हुआ है। अधिवक्ता श्री सिंह का कहना है की बार भवन बंद होने के कारण हम लोगों को बाहर रहकर काम करना पड़ रहा है। जिससे काफी परेशानी का भी सामना करना पड़ रहा है ।उन्होंने कहा कि न्यायालय के द्वारा ऑनलाइन मामलों की सुनवाई की जा रही है लेकिन ग्रामीण क्षेत्र के अधिवक्ताओं को इंटरनेट की सुविधा नहीं होने के कारण उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। हम केंद्र और राज्य सरकार से मांग करते है कि मुद्दे पर जल्द फैसला करें ताकि हम लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए अपने कार्यों का निष्पादन कर सकें । वही अधिवक्ता हीरालाल प्रजापति ने कहा कि हम चाहते है कि बार भवन खोल दिया जाय, ताकि हम लोगों के सामने जो कठिन स्थिति उत्पन्न हो गई है । उनका कुछ समाधान हो सके। काम नहीं होने के कारण आर्थिक स्थिति कमजोर हुआ है और जैसे ही स्कूल खुलेंगे हम लोगों के सामने कठिन परिस्थिति उत्पन्न होगी। इसीलिए हमारी मांगों पर गंभीरतापूर्वक विचार किया जाए।