Logo
ब्रेकिंग
रामगढ़ की बेटी महिमा को पत्रकारिता में अच्छा प्रदर्शन के लिए किया गया सम्मानित Bjp प्रत्याशी ढुल्लु महतो के समर्थन में विधायक सरयू राय के विरुद्ध गोलबंद हूआ झारखंड वैश्य समाज l हजारीबाग लोकसभा इंडिया प्रत्याशी जेपी पटेल ने किया मां छिनमस्तिका की पूजा अर्चना l गांजा तस्कर के साथ मोटासाइकिल चोर को रामगढ़ पुलिस ने किया गिरफ्तार स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l

सिंधिया आज भरेंगे राज्यसभा के लिए नामांकन

भोपाल: भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए पूर्व कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर के साथ दो दिवसीय भोपाल दौरे पर हैं।वे आज बीजेपी कार्यालय में राज्यसभा के लिए अपना नामांकन दाखिल करेंगे। इससे पहले गुरुवार को भोपाल पहुंचने पर बीजेपी कार्यकर्ताओं ने भव्य स्वागत किया। राजा भोज एयरपोर्ट से लेकर भाजपा कार्यालय तक एक बड़ा रोड़ शो निकाला गया। रात्रि भोज के लिए सिंधिया पूर्व मंत्री शिवराज सिंह चौहान के आवास पर पहुंचे थे।बीजेपी ने सिंधिया को ये जताने की पूरी कोशिश की कि पार्टी उनके आने से कितनी खुश है और वे उनके लिए कितने महत्वपूर्ण हैं। जिस तरह से गुरुवार को बीजेपी कार्यकर्ताओं ने सिंधिया का जोरदार स्वागत किया, उसे देखते हुए कयास लगाए जा रहे हैं कि उनका नामांकन भी भव्य होने वाला है।

तय कार्यक्रम के अनुसार, वे आज भाजपा कार्यालय पहुंचकर राज्यसभा के लिए नामांकन भरेंगे। आज मध्यप्रदेश की तीन राज्यसभा सीटों पर चुनाव के नामांकन का आखिरी दिन है। पार्टी ने बुधवार को मध्यप्रदेश से ज्योतिरादित्य सिंधिया को राज्यसभा के पार्टी उम्मीदवार के रूप में नामित किया था।

इससे पहले मंगलवार को होली के सिंधिया ने कांग्रेस छोड़ बीजेपी ज्वाइन करने का फैसला लिया था और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी, जो सिंधिया को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने उनके आवास पर गए। इसके बाद सिंधिया ने अपने इस्तीफे को सार्वजनिक किया था। उनके समर्थक 22 विधायकों ने भी कांग्रेस छोड़ दी, जिनमें छह मंत्री भी शामिल थे। इससे कमलनाथ सरकार पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं।