नीतीश कुमार से मिले सरयू राय, चुनाव में मदद करने के लिए जताया आभार; संघ कार्यालय पहुंचे

रांची। झारखंड विधानसभा चुनाव में भाजपा से बागी होकर मुख्‍यमंत्री रघुवर दास को उनकी सीट जमशेदपुर पूर्वी से हराने वाले पूर्व मंत्री सरयू राय ने बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात कर उनका आभार जताया है। बीते दिन बिहार की राजधानी पटना में सीएम नीतीश कुमार के आवास पर पहुंचे सरयू राय ने विधानसभा चुनाव में जदयू के समर्थन के लिए राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष को धन्‍यवाद दिया। इस दौरान सरयू राय ने सीएम नीतीश कुमार की ओर से बिहार में चलाई जा रही जल-जीवन-हरियाली अभियान की खुलकर तारीफ की।

नीतीश के जल-जीवन-हरियाली अभियान की तारीफ

पर्यावरण हित, जन-जन की चिंता और प्रकृति की सुरक्षा के लिए चलाए जा रहे इस महती अभियान के बारे में सरयू राय ने कहा कि इससे जनमानस के साथ ही पर्यावरण भी स्‍वस्‍थ होगा। सरयू राय ने नीतीश की प्रशंसा करते हुए कहा है कि बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीशकुमार की सरकार द्वारा एक सराहनीय पर्यावरणीय पहल “जल, जीवन, हरियाली” अभियान चलाया गया। इस आंदोलन को सफल बनाने के लिए  अभी बहुत कुछ करने की आवश्यकता है। इस अभियान में लोगों की सक्रियता, प्रतिबद्धता, योगदान, सहयोग की आवश्यकता है।

स्‍वास्‍थ्‍य राज्‍यमंत्री अश्विनी चौबे से की मुलाकात

पटना के राजकीय अतिथि गृह में सरयू राय, विधायक, पूर्वी जमशेदपुर और अश्विनी चौबे, राज्य स्वास्थ्य मंत्री, भारत सरकार की आत्मीय भेंट हुई। चौबे ने राय के कमरे में आकर उन्हें बधाई दी और गुलदस्ता भेंट किया। दोनों 1974 बिहार छात्र आंदोलन के समय के मित्र हैं। उन दिनों ये दोनों अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के पूर्णकालिक कार्यकर्ता थे। बाद में अश्विनी चौबे पटना विश्वविद्यालय छात्रसंघ के अध्यक्ष बने।

संघ कार्यालय में क्षेत्र प्रचारक रामदत्‍त चक्रधर से मिले

सरयू राय नीतीश से मिलने के बाद राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ, बिहार प्रांत के कार्यालय भी पहुंचे। यहां उन्‍होंने आरएसएस के क्षेत्र प्रचारक रामदत्‍त चक्रधर से भी मिले। चुनाव जीतने के बाद सरयू की नीतीश से यह पहली मुलाकात है। जबकि संघ से सरयू राय की नजदीकियां जगजाहिर है। इससे कुछ दिन पहले सरयू राय राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ मोहन भागवत से भी हरिद्वार में मुलाकात कर चुके हैं। तब सरयू राय ने बताया था कि विंध्याचल के ब्रह्मवेता देवरहा हंस बाबा के गो-सेवा आश्रम में माननीय सरसंघचालक मोहन भागवत जी से भेंट हुई, स्नेहपूर्ण वार्ता में पुरानी यादें ताजा हुईं, अच्छा लगा। आश्रम में आप सुबह 5 से दोपहर 3.30 बजे तक रहे। पूजा-अर्चना की। बाबा ने सबको साथ लेकर भारत को श्रेष्ठ बनाने का आशीष दिया।

सरयू राय पहुंचे बक्सर, गांव में मनाएंगे होली    

जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा के निर्दलीय विधायक सरयू राय सोमवार को बक्सर (बिहार) पहुंच गए। वे इस बार अपने पैतृक गांव में होली मनाएंगे। झारखंड के पूर्व खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू ने कहा कि उनका परिवार गांव में रहता है। विधानसभा चुनाव में इस बार उनकी जीत पर यहां भी खुशी मनी थी। गांव के लोगों की भी इच्छा थी कि होली अपने गांव में मनाऊं। यहां उनकी पुत्रवधू निधू देवी मुखिया हैं। इससे पहले सरयू रविवार को पटना में थे, जहां उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से उनके आवास पर मुलाकात की। सरयू ने विधानसभा चुनाव में जदयू से मिले समर्थन के लिए आभार जताया। सरयू पटना में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यालय भी गए, जहां क्षेत्र प्रचारक रामदत्त चक्रधर से मुलाकात की। सरयू राय का पैतृक गांव बिहार के बक्सर जिला के इटाढ़ी प्रखंड के खनिता में है।

पूर्व मंत्री सरयू राय ने बिहार के मुख्‍यमंत्री और जदयू के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष नीतीश कुमार से मुलाकात पर अपने ट्विटर हैंडल से संदेश भी लिखा है। सरयू ने नीतीश के साथ मुलाकात की तस्‍वीर पोस्‍ट करते हुए ट्वीट किया- आज नीतीश कुमार जी के साथ उनके आवास पर शिष्टाचार भेंट किया एवं चुनाव में जदयू के समर्थन के लिये आभार व्यक्त किया। चुनाव जीतने के बाद नीतीश कुमार के साथ यह मेरी पहली भेंट है। आज पटना में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के क्षेत्र प्रचारक मा० रामदत्त चक्रधर से भी संघ कार्यालय जाकर मिला। @NitishKumar जी के साथ उनके आवास पर शिष्टाचार भेंट किया एवं चुनाव में जदयू के समर्थन के लिये आभार व्यक्त किया. चुनाव जीतने के बाद श्री कुमार के साथ यह मेरी पहली भेंट है.आज पटना में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के क्षेत्र प्रचारक मा० रामदत्त चक्रधर से भी संघ कार्यालय जाकर मिला. pic.twitter.com/IaFYx45p6p

Saryu Roy

@roysaryu

आज श्री @NitishKumar जी के साथ उनके आवास पर शिष्टाचार भेंट किया एवं चुनाव में जदयू के समर्थन के लिये आभार व्यक्त किया. चुनाव जीतने के बाद श्री कुमार के साथ यह मेरी पहली भेंट है.आज पटना में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के क्षेत्र प्रचारक मा० रामदत्त चक्रधर से भी संघ कार्यालय जाकर मिला.

Twitter पर छबि देखें
48 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं

हेमंत सरकार को दी विधानसभा के अवमानना की कार्रवाई की चेतावनी

झारखंड विधानसभा के बजट सत्र में भाजपा में शामिल हुए पूर्व मुख्‍यमंत्री सरयू राय को नेता प्रतिपक्ष नहीं बनाए जाने को लेकर सरयू राय खासे निराश हैं। ट्विटर पर अपने संदेश में सरयू ने सरकार के मंत्रियों को अवमानना की कार्रवाई की चेतावनी देते हुए कड़ी नसीहत दी है। सरयू राय ने अपने ट्वीट में कहा है कि भाजपा द्वारा विधानसभा कार्यवाही बाधित करने के कारण प्रश्नों के लिखित उत्तर तो आ जाते हैं पर प्रश्नोत्तर नहीं हो पाता, सच्चाई छुपी रह जाती है। ऐसे में मैंने मंत्रियों से कहा है कि मैं ऐसे सवालों से संतुष्ट नही हूं। चलते सदन में वस्तुस्थिति बतानी होगी। नहीं तो झारखंड की हेमंत सोरेन सरकार पर अवमानना की कारवाई चल सकती है।

Saryu Roy

@roysaryu

भाजपा द्वारा विधान सभा कार्यवाही बाधित करने के कारण प्रश्नों के लिखित उत्तर तो आजाते हैं पर प्रश्नोत्तर नहीं हो पाता,सच्चाई छुपी रह जाती है. मैंने मंत्रियों से कहा है कि मैं ऐसे सवालों से संतुष्ट नही हूँ. चलते सदन में वस्तुस्थिति बतानी होगी. नहीं तो अवमानना की कारवाई चल सकती है.

31 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं

सीएम हेमंत सोरेन को दी मंत्रियों को निर्देश देने की नसीहत

झारखंड विधानसभा के बजट सत्र में पूछे गये राज्यहित-जनहित के गंभीर प्रश्नों के भ्रामक व तथ्येतर उत्तर देने पर मुख्‍यमंत्री हेमंत सोरेन की सरकार को घेरते हुए पूर्व मंत्री सरयू राय ने सीएम से मंत्रियों को इस बाबत कड़े निर्देश देने की नसीहत दी है। सरयू ने कहा है कि विधानसभा में अधिकतर सवालों के जवाब सरकार की ओर से तथ्‍य से इतर और भ्रामक तरीके से आ रहे है। ऐसे में मुख्‍यमंत्री हेमंत सोरेन अपने कैबिनेट के मंत्रियों को निर्देश दें कि विधानसभा में सदस्‍यों के सवालों का जवाब देते समय वे प्रश्‍नों से जुड़े सारे तथ्य सही तरीके से सामने रखें। सरयू राय ने सीएम हेमंत सोरेन को टैग करते हुए अपने ट्वीट में कहा कि मंत्रियों के भ्रामक जवाबों के लिए सरकार पर विधानसभा की अवमानना की कारवाई चल सकती है।

Saryu Roy

@roysaryu

झारखंड विधानसभा के बजट सत्र में पूछे गये राज्यहित-जनहित के गंभीर प्रश्नों के भ्रामक व तथ्येतर उत्तर सरकार की ओर से आ रहे है. CM @HemantSorenJMM मंत्रियों को निर्देश दें कि सवालों का जवाब सभा में देते समय वे तथ्य सामने रखें. अन्यथा सरकार पर सभा की अवमानना की कारवाई चल सकती है.

49 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं
Whats App