Logo
ब्रेकिंग
माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव भंडारा के साथ संपन्न युवक ने प्रेमिका के लवर को उतारा मौत के घाट, वारदात को अंजाम देकर कुएं में फेंकी लाश । 1932 खतियान राज्यपाल ने किया वापस, झामुमो में आक्रोश, किया विरोध, फूंका प्रधानमंत्री का पुतला । रामगढ़ विधानसभा उपनिर्वाचन 2023 के मद्देनजर उपायुक्त ने की प्रेस वार्ता कराटे बेल्ट ग्रेडेशन टेस्ट सह प्रशिक्षण शिविर में 150 कराटेकार शामिल, उत्कृष्ट प्रदर्शनकारी को मिला ... श्रीराम सेना के विशाल हिंदू सम्मेलन में राष्ट्रवादी प्रखर प्रवक्ता पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ और अंतरराष्... भव्य कलश यात्रा के साथ माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव शुरू रामगढ़ में मनाया गया 74 वां गणतंत्र दिवस, विभिन्न कार्यालयों द्वारा निकाली गई झांकी माँ की ममता से दूर जेल में बंद पूर्व विधायक मामता देवी का दूधमुहा बच्चा बीमारी की गिरफ्त में । माता वैष्णों देवी मंदिर के 32वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 26 को

IPS अनुराग गुप्‍ता पर नया खुलासा, ट्रांसफर के बाद भी 2 साल तक बने रहे आइजी विजिलेंस

रांची। राज्यसभा चुनाव में पार्टी विशेष के लिए काम करने के आरोप में घिरे 1990 बैच के आइपीएस अधिकारी अनुराग गुप्ता के खिलाफ एक और मामला सामने आया है। फिलहाल वे सस्पेंड हैैं। उनके उपर एक और सनसनीखेज आरोप लगा है कि उन्होंने स्थानांतरण के बावजूद तत्कालीन झारखंड राज्य विद्युत बोर्ड (जेएसईबी) में करीब दो साल तक आइजी निगरानी के पद पर रहते हुए कई महत्वपूर्ण काम निपटाए।

आरोप है कि इस दरम्यान उन्होंने बिजली बोर्ड में निजी कंपनियों के टेंडर में अपने पद का दुरुपयोग किया। सरकार तक इस संबंध में सूचना पहुंची है। सूचना मिलने के बाद राज्य सरकार ने झारखंड राज्य ऊर्जा विकास निगम को पूरे मामले में जांच कर रिपोर्ट सौंपने का आदेश दिया है। इस पूरे प्रकरण पर आइपीएस अधिकारी अनुराग गुप्ता से उनका पक्ष जानने की कोशिश की गई, लेकिन उन्होंने जवाब नहीं दिया।

मिली जानकारी के अनुसार आइपीएस अधिकारी अनुराग गुप्ता को जेएसईबी में 21 जुलाई 2011 को आइजी विजिलेंस के पद पर पदस्थापित किया गया था। 20 जुलाई 2013 को उनका स्थानांतरण आइजी प्रोविजन के पद पर किया गया था। इसी बीच, एक कथित पत्र ने यह सनसनी फैला दी है कि स्थानांतरण के बावजूद 20 फरवरी 2015 को अनुराग गुप्ता ने जेएसईबी में आइजी विजिलेंस के हैसियत से पत्र जारी किया था। अब झारखंड राज्य ऊर्जा निगम की जांच रिपोर्ट के बाद ही पूरी स्थिति स्पष्ट होगी।

बेड़ो डीएसपी ने कैसे किया जगन्नाथपुर थाने में दर्ज केस का सुपरविजन, ली जा रही रिपोर्ट

राज्यसभा चुनाव के दौरान पार्टी विशेष के लिए काम करने के आरोपित आइपीएस अधिकारी अनुराग गुप्ता के खिलाफ रांची के जगन्नाथपुर थाने में दर्ज मामले में प्रशासनिक घेरा कसता जा रहा है। जांच में आरोपितों को बचाने में जो-जो अधिकारी शामिल रहे हैं, उनका फंसना तय माना जा रहा है।

अब एक नई सूचना आई है कि जगन्नाथपुर थाने में दर्ज उक्त कांड के सुपरविजन की जिम्मेदारी बेड़ो के डीएसपी को दी गई थी, जबकि जगन्नाथपुर थाना हटिया के डीएसपी (वर्तमान में एएसपी हटिया) के अधीन आता है। सूचना है कि इस कांड का सुपरविजन करने वाले बेड़ो के डीएसपी पर भी कार्रवाई की गाज गिरेगी। सरकार के आदेश पर पूरे प्रकरण की गंभीरता से जांच चल रही है और उठाए गए सभी बिंदुओं की तह खंगाली जा रही है।

nanhe kadam hide