स्लरी लोडिंग मजदूरों को रोजगार दे सीसीएल प्रबंधन, नही तो 5 मार्च से होगा सीसीएल बंद : चंद्रशेखर 

सीसीएल रजरप्पा क्षेत्र में पिछले 17 जनवरी से स्लरी लोडिंग उठाव कार्य है बंद, 650 स्लरी लोडिंग मजदूरों के समक्ष भुखमरी की स्थिति उत्पन्न 

Ramgarh:सीसीएल रजरप्पा क्षेत्र में पिछले 17 जनवरी से स्लरी लोडिंग उठाव कार्य बंद है। जिसके कारण यहां के 650 स्लरी लोडिंग मजदूरों के समक्ष भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गई हैं। उनकी स्थिति को देख भाजपा जिलाध्यक्ष उनके पक्ष में उतर आएं है। उनके नेतृत्व में सैकड़ो स्लरी मजदूर कांटा घर के समीप पहुंचकर सीसीएल रजरप्पा प्रबंधन के खिलाफ जमकर विरोध प्रदर्शन किया।

मौके पर भाजपा जिलाध्यक्ष ने कहा कि की 15 जनवरी 2017 को सीसीएल मुख्यालय रांची में सीसीएल प्रबंधन व असंगठित विस्थापित स्लरी लोडिंग मजदूर संघ के बीच समझौता हुआ था कि मजदूरों को रोजगार देने हेतु प्रतिदिन 100 ट्रक उपलब्ध कराया जाएगा। लेकिन पिछले दो महीनों से एक भी ट्रक उपलब्ध नही कराया गया। जिसके कारण मजदूरों के समक्ष भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गई है। यहां कभी सीटीओ के नाम पर तो कभी माइनिंग के नाम पर नई नई बात कहकर स्लरी उठाव कार्य को प्रभावित किया जाता है।

अगर मजदूरों की बात सीसीएल रजरप्पा प्रबंधन नही मानती है, तो 5 मार्च से पूरा सीसीएल रजरप्पा क्षेत्र को बंद करा दिया जाएगा। इसकी सारी जवाबदेही सीसीएल प्रबंधन की होगी। विरोध करने वालों में  मधु साहू, बसंत केवट, राजेंद्र महतो, अर्जुन महतो, भुवनेश्वर महतो, कालेश्वर महतो, मनीजर करमाली, संतोष करमाली, शमीम अहमद, रामदास मांझी, श्याम सुंदर महतो, नरेश महतो, मोहनलाल महतो, धर्म महतो,  हीरालाल करमाली,  परमेश्वर साहू, मोहन मांझी, करमचंद महतो, उमेश महतो, मंगरा मांझी, कयूम अंसारी  खिरोधर मानकी, उमेश मुंडा, गणेश कुमार पटेल सहित सैकड़ों स्लरी मजदूर शामिल थे।

Whats App