Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

मुख्यमंत्री के ट्विटर ने वृद्ध महिला को दिया जीने का सहारा, पेंसन के साथ मकान की आस भी होगी पूरी

Ramgarh:दरअसल पूरा मामला यह है कि रामगढ़ जिले के बरिसम गांव की रहने वाली एक वृद्ध महिला रतनी देवी की, जो कि बहुत ही तंगहाली की हाल में अपनी जीवन गुजर बसर करने की है। पति बाबू मांझी की गुजरे 15 साल से ऊपर  हो गया एक बेटा था वह भी साल भर पहले गुजर गया घर में चार छोटे छोटे नाती नतिनी है बहु खेतो में मजदूरी करती है।

वृद्धा रतनी देवी अपनी बदहाल आर्थिक हालात को देखते हुए सरकारी पेंशन और आवास के लिये पिछले कई सालों से सरकारी दफ़्तर की चक्कर लगा लगा कर थक हार चुकी थी और सरकारी सुविधा की अब तो आस भी छोड़ चुकी थी , लेकिन इसी बीच गांव के एक युवक बिनोद सोरेन ने दो दिन पहले मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन को ट्वीट के जरिये इस महिला की आर्थिक हालात की वस्तु स्थिति से अवगत कराया ।मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन को जैसे ही यह मामला संज्ञान में आया उन्होंने तुरंत रामगढ डीसी संदीप सिंह को ट्विटर से निर्देश दिया कि रतनी देवी के साथ उचित कार्यवाही करते हुए मुझे सूचित करें।


रामगढ डीसी को मुख्यमंत्री के ट्विटर पर निर्देश मिलते ही डीसी संदीप सिंह ने फौरन कार्यवाही करते हुए मांडू बीडीओ मनोज गुप्ता को रतनी देवी के घर जाने का निर्देश दिया । मनोज गुप्ता रतनी देवी के घर जाकर पेंशन सम्बंधित सारे कागजात पूरी कर पेंशन की शुरुवात की और साथ ही रतनी देवी को आश्वासन भी दिया कि जल्द ही उन्हें अम्बेडकर आवास भी मुहैया करवा दिया जाएगा।

ऐसे में सवाल उठता है कि इन कई सालों में आखिर क्यों नही मिला रतनी देवी को पेंशन या आवास अगर मुख्यमंत्री ने इस मामले में रामगढ डीसी को ट्विटर से यह निर्देश नही दिया होता तो रतनी देवी आज भी उसी हालत में रहने को मजबूर होती।