Logo
ब्रेकिंग
माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव भंडारा के साथ संपन्न युवक ने प्रेमिका के लवर को उतारा मौत के घाट, वारदात को अंजाम देकर कुएं में फेंकी लाश । 1932 खतियान राज्यपाल ने किया वापस, झामुमो में आक्रोश, किया विरोध, फूंका प्रधानमंत्री का पुतला । रामगढ़ विधानसभा उपनिर्वाचन 2023 के मद्देनजर उपायुक्त ने की प्रेस वार्ता कराटे बेल्ट ग्रेडेशन टेस्ट सह प्रशिक्षण शिविर में 150 कराटेकार शामिल, उत्कृष्ट प्रदर्शनकारी को मिला ... श्रीराम सेना के विशाल हिंदू सम्मेलन में राष्ट्रवादी प्रखर प्रवक्ता पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ और अंतरराष्... भव्य कलश यात्रा के साथ माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव शुरू रामगढ़ में मनाया गया 74 वां गणतंत्र दिवस, विभिन्न कार्यालयों द्वारा निकाली गई झांकी माँ की ममता से दूर जेल में बंद पूर्व विधायक मामता देवी का दूधमुहा बच्चा बीमारी की गिरफ्त में । माता वैष्णों देवी मंदिर के 32वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 26 को

राज्यसभा के उपसभापति बोले, विधायिका प्रभावी होगी तभी झारखंड बेहतर बनेगा

सदन नियमों और परंपराओं के तहत सकारात्मक रूप से चले, सदन के नेता के रूप में वे इसे सुनिश्चित करने का प्रयास करेंगे।

रांची। राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश ने कहा है कि बेहतर झारखंड तभी बनेगा जब विधायिका प्रभावी होगी। विधायिका तभी प्रभावी होगी जब हर विधायक प्रभावी होंगे। उपसभापति नव झारखंड विधानसभा के नवनिर्वाचित विधायकों के लिए प्रोजेक्‍ट भवन में आयोजित दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे। हरिवंश ने विधायकों की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी समय पर कानून बनाने पर चर्चा करते हुए कहा कि जो कानून आज बनना चाहिए, उसे दस वर्ष बाद बनाकर जनता के साथ अन्याय करते हैं। उन्होंने विधायकों के प्रशिक्षण के लिए केंद्र स्थापित करने की भी वकालत की। उन्होंने संसदीय आचरण और मर्यादा बनाए रखने पर जोर देते हुए कहा कि इसका असर पूरे समाज पर पड़ता है।

बता दें कि झारखंड विधानसभा के नवनिर्वाचित विधायकों के लिए प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया गया है। आज बुधवार को दूसरा और अंतिम दिन है। पहले दिन मुख्‍यमंत्री हेमंत सोरेन ने अपना संबोधन दिया था। मुख्यमंत्री ने कहा था कि सदन में राज्य का कोई भी ज्वलंत विषय पर सकारात्मक बहस होनी चाहिए। उन्होंने सदन में विधायकों के आचरण को ध्यान में रखते हुए कहा कि सूचना तंत्र मजबूत होने से अब आम लोग सरकार और सदन की हर गतिविधि की जानकारी रखते हैं।

सदन नियमों और परंपराओं के तहत सकारात्मक रूप से चले, सदन के नेता के रूप में वे इसे सुनिश्चित करने का प्रयास करेंगे। इससे पहले, स्पीकर रवींद्रनाथ महतो ने पक्ष और विपक्ष के सकारात्मक बहस पर जोर देते हुए इसपर चिंता जताई कि कई महत्वपूर्ण विधेयक बिना चर्चा के पास हो जाते हैं।

nanhe kadam hide