Logo
ब्रेकिंग
DISNEY LAND MELA का रामगढ़ फुटबॉल मैदान में हुआ शुभारंभ विस्थापितों की 60% की भागीदारी सुनिश्चित नहीं हुई, तो होगा CCl का चक्का जाम Income tax raid फर्नीचर व गद्दे में थीं नोटों की गड्डियां, यहां IT वालो को मिली अरबों की संपत्ति! बाइक चोरी करने वाले impossible गैंग का भंडाफोड़, पांच अपरा'धी गिरफ्तार।। रामगढ़ की बेटी महिमा को पत्रकारिता में अच्छा प्रदर्शन के लिए किया गया सम्मानित Bjp प्रत्याशी ढुल्लु महतो के समर्थन में विधायक सरयू राय के विरुद्ध गोलबंद हूआ झारखंड वैश्य समाज l हजारीबाग लोकसभा इंडिया प्रत्याशी जेपी पटेल ने किया मां छिनमस्तिका की पूजा अर्चना l गांजा तस्कर के साथ मोटासाइकिल चोर को रामगढ़ पुलिस ने किया गिरफ्तार स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा*

केंद्र सरकार के विरोध में नारेबाजी करते हुए माकपा ने निकली उलगुलान रैली

Ranchi news :केंद्र सरकार के विरोध में नारेबाजी करते हुए माकपा ने निकली उलगुलान रैली

राँची जिले के तमाड़ विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत बुण्डू के धुर्वा मोड़ मौसी बाड़ी में सीपीआई (एम) ने आज विशाल जनसभा की। हजारो की संख्या में संगठन के कार्यकर्ताओं व समर्थकों ने स्व रमेश सिंह मुंडा प्लस टू विद्यालय के पास से रैली निकाली व केंद्र सरकार के विरुद्ध आवाज बुलंद करते हुए जमकर नारेबाजी की। वहीं हाथों में पार्टी पताका लेकर पैदल मार्च करते हुए धुर्वा मोड़ होते हुए मौसीबाड़ी मैदान में लोगों को सम्बोधित किया।
सभा को संबोधित करते हुए डॉ अशोक ढावले ने कहा – देश के सभी राज्यों के राजभवनों पर मजदूर -किसानों का तीन दिनों का महापड़ाव होगा। झारखंड की धरती से ही हमारे राष्ट्रीय आंदोलन की शुरूआत हुयी थी और 1855 में सिदो – कान्हो के नेतृत्व में आयोजित संताल हूल ने 1857 के स्वतंत्रता संग्राम की आधारशिला रखने का काम किया। लेकिन आज झारखंड की जमीन, जंगल और खनिज की लूट हो रही है और कार्पोरेट घरानों को फायदा पहुंचाया जा रहा है इसलिए एक और उलगुलान की तैयारी करनी होगी।
उन्होंने महाराष्ट्र के किसान लांग मार्च की चर्चा करते हुए बताया कि पचास हजार किसानों ने नासिक से 200 किलोमीटर दूर मुंबई के लिए कूच किया जिससे महाराष्ट्र की भाजपा सरकार घबरा गई और उन्हें किसानों की सभी मांगों को मानना पड़ा। उसी प्रकार देशव्यापी किसान आंदोलन ने मोदी सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि कानूनों को वापस कराने में जीत हासिल की।