रामगढ़ उपायुक्त ने शिक्षा, स्वास्थ्य को बढ़ावा और कुपोषण को खत्म करन के लिए किया कार्यक्रम

ओएनजीसी के सहयोग से कस्तूरबा गांधी विद्यालयों को एंबुलेंस तथा एएनएम को दिया स्कूटी

yamaha

Ramgarh/Newslens:  रामगढ़ उपायुक्त ने आज कस्तूरबा गांधी विद्यालयों के लिए 6 एंबुलेंस तथा आंगनबाड़ी केंद्र के महिला सुपरवाइजर के लिए 12 स्कूटी का वितरण किया जो ओएनजीसी के सीएसआर के तहत सम्पन्न हुआ, उपायुक्त ने कहा इसका उद्देश्य शिक्षा स्वास्थ्यय और महिला के साथ कुपोषण संबंधित समस्याओं को फोकस करते हुए बेहतर कार्य करनाा है।

रामगढ़ जिला समाहरणालय परिसर में आज ओएनजीसी के सीएसआर के तहत एक कार्यक्रम का आयोजन हुआ जिसमें उपायुक्त ने कस्तूरबा गांधी विद्यालयों के लिए आधे दर्जन एंबुलेंस तथा महिला पर्यवेक्षिकाओं के बीच एक दर्जन स्कूटी का वितरण किया। इसका मुख्य उद्देश्य कस्तूरबा गांधी विद्यालयों में आपात स्थिति आने पर विद्यार्थियों के लिए 24 घंटे एंबुलेंस उपलब्ध रहे तथा पर्यवेक्षिकाओं को काम के दौरान आने वाली दिक्कतों का समाधान करना है ताकि जिले में शिक्षा स्वास्थ्य और कुपोषण संबंधित समस्याओं का जल्द से जल्द निवारण हो सके। मौके पर उपायुक्त ने कहा कि सीएसआर के तहत आज आंगनबाड़ी केंद्रों को और उनके सुपरवाइजर को 12 स्कूटी दिया गया है उद्देश्य है कि उनका इंस्पेक्शन तथा फील्ड वर्क बेहतर तरीके से हो और वे ज्यादा सेंटर्स को कवर कर सके और 6 कस्तूरबा गांधी विद्यालयों के लिए एंबुलेंस का प्रपोजल हम लोगों ने दिया था जिसमें 2 फर्स्ट फेज में अभी दिए गए हैं चार और आने वाले समय में दिए जाएंगे, फोकस है जिला प्रशासन का कि शिक्षा स्वास्थ्य और आंगनबाड़ी जिसमें कुपोषण भी है उसे दुरुस्त करें, 150 आंगनबाड़ी केंद्रों को चिन्हित कर उनको मॉडल अपग्रेड करने का काम ओएनजीसी को दिया गया है इसमें 30 से 35 का कार्य चालू है टारगेट यही है कि इसके माध्यम से भी हम लोग शिक्षा स्वास्थ्य और महिला के साथ कुपोषण संबंधित समस्याओं को फोकस करते हुए कार्य करें

कार्यक्रम में पहुंचे ओएनजीसी के प्रमुख ने बताया कि आज यहां पर हमारा सीएसआर का कार्यक्रम है, रामगढ़ जिला हमारा ऑपरेशनल जिला है, स्वास्थ्य और शिक्षा हमारा पहला प्राथमिकता रहता है जिसके तहत 2 एंबुलेंस कस्तूरबा गांधी विद्यालय को दे रहे हैं और छह स्कूटी नर्सेज को दे रहे हैं, उद्देश्य है कि आपात स्थिति में बच्चों के लिए एंबुलेंस उपलब्ध रहें और आंगनबाड़ी के लोग ज्यादा से ज्यादा गांव के लोगों को सहयोग दें इसलिए स्कूटी दे रहे हैंl

मौके पर एक महिला लाभुक ने बताया कि आज मैं बहुत अच्छा लग रहा है कि हमें स्कूटी मिला है, फील्ड वर्क हम किसी न किसी के सहयोग से ही करते रहे हैं क्योंकि दूरदराज के इलाकों में हमें जाना पड़ता है, आज हमारे लिए एक नई पहल हुई है अब अपने आप से हम जा सकेंगे खुद स्कूटी चला कर जा सकेंगे और विजिट करेंगे, सरकार का यह बहुत ही सराहनीय कदम हैl

raja moter
Leave A Reply

Your email address will not be published.