Logo
ब्रेकिंग
मॉबली*चिंग के खिलाफ भाकपा-माले ने निकाला विरोध मार्च,किया प्रदर्शन छावनी को किसान सब्जी विक्रेताओं को अस्थाई शिफ्ट करवाना पड़ा भारी,हूआ विरोध व गाली- गलौज सूक्ष्म से मध्यम उद्योगों का विकास हीं देश के विकास का उन्नत मार्ग है बाल गोपाल के नए प्रतिष्ठान का रामगढ़ सुभाषचौक गुरुद्वारा के सामने हुआ शुभारंभ I पोड़ा गेट पर गो*लीबारी में दो गिर*फ्तार, पि*स्टल बरामद Ajsu ने सब्जी विक्रेताओं से ठेकेदार द्वारा मासूल वसूले जाने का किया विरोध l सेनेटरी एवं मोटर आइटम्स के शोरूम दीपक एजेंसी का हूआ शुभारंभ घर का खिड़की तोड़ लाखों रुपए के जेवरात कि चोरी l Ajsu ने किया चोरों के गिरफ्तारी की मांग I 21 जुलाई को रामगढ़ में होगा वैश्य समाज के नवनिर्वाचित सांसद और जनप्रतिनिधियों का अभिनंदन l उपायुक्त ने कि नगर एवं छावनी परिषद द्वारा संचालित योजनाओं की समीक्षा।

रामगढ़ के प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ राहुल बरेलिया पर उपायुक्त ने दिया कार्रवाई का आदेश l

डीएमएफटी से नियुक्त चिकित्सक डॉक्टर राहुल बरेलिया पर सदर अस्पताल के बजाय अपने निजी नर्सिंग होम में सर्जरी करने का लगा हैं आरोप l उपायुक्त ने सिविल सर्जन को दिया चिकित्सक पर कार्रवाई करने का निर्देश l

एक सितंबर 2022 से 31 मई 2023 तक की अवधि में अपने निजी नर्सिंग होम बरेलिया नर्सिंग होम में कुल 188 सर्जरी करने एवं सदर अस्पताल रामगढ़ में एक भी सर्जरी नहीं करने का है आरोप l

रामगढ़ : आयुष्मान भारत आरोग्य योजना अंतर्गत उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार डीएमएफटी मद से सदर अस्पताल रामगढ़ में नियुक्त आर्थोपेडिक विशेषज्ञ डॉक्टर राहुल बरेली द्वारा एक सितंबर 2022 से 31 मई 2023 तक की अवधि में अपने निजी नर्सिंग होम बरेलिया नर्सिंग होम में कुल 188 सर्जरी करने एवं सदर अस्पताल रामगढ़ में एक भी सर्जरी न करने को उपायुक्त रामगढ़ चंदन कुमार ने गंभीरता से लिया है। इस पर उपायुक्त ने सिविल सर्जन, रामगढ़ डॉक्टर महालक्ष्मी प्रसाद को निर्देश देते हुए एक सप्ताह के अंदर चिकित्सक डॉक्टर राहुल बरेलिया पर कार्रवाई करते हुए संबंधित प्रतिवेदन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है साथ ही उपायुक्त ने सिविल सर्जन रामगढ़ को क्लिनिकल एस्टेब्लिशमेंट एक्ट 2010 तथा क्लीनिकल इस्टैब्लिशमेंट रूल 2013 के अंतर्गत इसकी भी जांच करने का निर्देश दिया है कि क्या वे 188 मरीज सदर अस्पताल रामगढ़ में चिकित्सा प्राप्त करने आए थे और क्या इस आलोक में यह प्रतीत होता है कि डॉ राहुल बरेलिया द्वारा मरीजों को दलाल अथवा एजेंट के माध्यम से अपने निजी नर्सिंग होम में भेजा जाता रहा है। साथ ही उपायुक्त ने सिविल सर्जन को चिकित्सक डॉ राहुल बरेलिया से स्पष्टीकरण पूछते हुए यह प्रतिवेदित करने का निर्देश दिया है कि क्या डीएमएफटी मद के अंतर्गत इस पद को चालू रखने की कोई आवश्यकता बची है अथवा नहीं।