Ramgarh नेपाल में भटक कर हिंदुस्तान आया मासूम नेपाली अपने घर नेपाल हुआ रवाना

दो वर्षों से भारत में रह रहे नेपाली मासूम के स्वदेश वापसी की तमन्ना हुई पूरी

yamaha

रामगढ़ : रामगढ़ जिला उपायुक्त के प्रयास से दो वर्षों से भारत में रह रहे नेपाली मासूम के स्वदेश वापसी की तमन्ना हुई पूरी, नेपाली दूतावास के द्वारा अधिकृत व्यक्ति के साथ उपायुक्त की कागजी कार्रवाई खत्म होते ही उसे आज नेपाल भेज दिया जाएगा।

आपने फिल्म बजरंगी भाई जान जरूर देखा होगा इस फ़िल्म में पाकिस्तानी बच्ची मुन्नी अपने परिवार से बिछुड़ कर हिंदुस्तान आ गई थी , इस फिल्म कथा में मुन्नी की देवदूत बन कर आये  बजरंगी भाई यानि सलमान खान ने उसे न सिर्फ पाकिस्तान पहुंचाया बल्कि मुन्नी के बिछुड़े अपने परिवार से भी मिलाया। ठीक उसी फ़िल्म की तर्ज में आज रामगढ में भी एक वाक्या देखने को मिली इस कहानी में  8 साल के एक नेपाली  बच्चा रामू पूण  अपने देश नेपाल से भटक कर  हिंदुस्तान आ गया करीब दो साल तक वह अपने परिवार से बिछुड़ा रहा इस बच्चे के जीवन मे देवदूत बने संदीप सिंह ।

इस नेपाली बच्चे की कहानी के बारे में बताया जाता है कि यह 8 साल का मासूम बच्चा को ट्रेन देखने की शौक था ,  वह ट्रेन में चढ़ा और ट्रेन के जरिये  बिहार पहुंच गया और बिहार से रांची CWC के संरक्षण में आ गया इस दौरान रांची CWC की टीम इसे रामगढ वात्सल्यधाम भेज दिया यहां करीब वह दो साल रहने के बाद डीसी संदीप सिंह से मुलाकात हुई।
घटनाक्रम के अनुसार इस मासूम बच्चे का नाम रामू पुन है जिसके पिता का नाम  मीतलाल पुन तथा माता शोभा क्षेत्रीय है और यह बच्चा विजन चौक थाना जिप्रका नेपाल वार्ड नंबर चार गोराई उप महानगर पालिका जिला दांग प्रदेश पांच नेपाल का रहने वाला है, आज उपायुक्त के पहल पर कार्रवाई संपन्न कर इसे वापस माता-पिता के पास नेपाल भेजने की करवाई पूरी की।
नेपाली बच्चा रामू पूण आज 10 वर्ष का हो चुका है और इसके जीवन मे आज एक नया मोड़ तब आया जब इसके जीवन मे देवदूत बनकर आये रामगढ के डीसी संदीप सिंह आये , जिनके प्रयास से अब यह बच्चा  नेपाल अपने पैतृक जिला  दांग  जा रहा है । रामू पूण के लिये आज  जीवन के सबसे अहम दिन और  खुशियां से भरा दिन रहा और वह आज काफी खुश दिखा, क्योंकि अब वह अपने परिवार से मिलने अपने घर नेपाल जाने वाला है ।

अपने परिवार से बिछुड़े यह बच्चा इस दौरान दो साल तक CWC के देख रेख में  झारखंड के रामगढ वात्सल्य धाम में रहा , इसी बीच रामगढ के डीसी संदीप सिंह का वात्सल धाम में औचक निरीक्षण के दौरान इस बच्चे से मुलाकात हुई और डीसी के प्रयास से बच्चे की पूरी जानकारी ली गई और नेपाल के एम्बेसी से वार्ता कर इसके घर का पता लगवाया गया और वहां से इसके पिता की फोटो और नेपाल पुलिस में  बच्चे की मिसिंग की रिपोर्ट मंगवाई इन सारी प्रक्रिया के बाद आज नेपाल के एम्बेसी के आदेश पर एनजीओ पीस के डॉयरेक्टर सुमन सबकोटा की टीम आयी और कागजी प्रक्रिया पूरी कर बच्चे को अपने साथ ले गई  ।

raja moter
Leave A Reply

Your email address will not be published.