Logo
ब्रेकिंग
Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी पुलिस अधीक्षक के कार्रवाई से पुलिस महकमा में हड़कंप, चार पुलिस कर्मी Suspend रामगढ़ छावनी फुटबॉल मैदान में लगा हस्तशिल्प मेला अब सिर्फ 06फ़रवरी तक l

रहस्यमय समुदाय: चेहरा इंसान जैसा लेकिन पैर शुतुरमुर्ग जैसे, झट से चढ़ जाता है पेड़ पर

आज भी दुनिया में कुछ ऐसी जनजातियां हैं जो अपनी परंपराओं, रहन-सहन और खान-पान को लेकर आम लोगों के बीच चर्चा का विषय बनी रहती हैं। इनकी शक्ल इंसानों जैसी होती है, लेकिन इन लोगों के पैरों में हमारी तरह 5 उंगलियां नहीं होती हैं। चेहरा इंसान का मगर पैर शुतुरमुर्ग के जैसे होते हैं l

ये लोग डोमा जनजाति से हैं, जिन्हें ‘Ostrich People’ भी कहा जाता है. इसके पीछे का कारण है इनके पैर. जो दिखने में ऑस्ट्रिच यानी शुतुरमुर्ग पक्षी के जैसे हैं. जिम्बाब्वे के कान्येम्बा क्षेत्र की इस जनजाति के लोग अपनी दुर्लभ आनुवंशिक स्थिति को लेकर प्रसिद्ध हैं. इस जनजाति के कई सदस्य एक्ट्रोडैक्टली से पीड़ित हैं. इस आनुवंशिक म्यूटेशन को लॉबस्टर क्लॉ सिंड्रोम भी कहा जाता है.

डेली स्टार की रिपोर्ट के अनुसार, इसमें जन्म के वक्त पैर की एक या उससे अधिक उंगलियां गायब होती हैं. ऐसा माना जाता है कि डोमा जनजाति में पैदा होने वाला हर चार में से एक बच्चा इस स्थिति से पीड़ित होता है. अधिकतर लोगों के पैर के बीच की तीन उंगलियां गायब रहती हैं और इसके बजाय केवल दो ही उंगलियां होती हैं. ये अंदर की ओर मुड़ी हुई रहती हैं. इन लोगों को अपने ग्रुप के बाहर शादी करने की मनाही है, ताकि ये बीमारी अन्य जनजाति के लोगों में न फैले.
जनजाति के बाहर शादी करने पर रोक लगाने वाले कानूनों के बावजूद, ये स्थिति कालाहारी रेगिस्तान के तलौंडा या तलौते कलंगा सहित अन्य जनजातियों में भी मौजूद है. ऐसा माना जाता है कि ये लोग डोमा जनजाति के साथ ही वंश साझा करते हैं. रिपोट्स के अनुसार, ये समुदाय अपनी स्थिति को विकलांगता नहीं मानता. वो भी तब जब कि इन लोगों को चलने में कठिनाई होती है और उनके लिए दौड़ना भी बेहद मुश्किल है. ये लोग जूते भी नहीं पहन पाते हैं.
इन सबके बजाय ये इसे अपनी खूबी के तौर पर देखते हैं. साथ ही अपनी इस स्थिति का जश्न मनाते हैं. इनका मानना है कि अपनी इसी खूबी की वजह से ये पेड़ पर तेजी से चढ़ पाते हैं. इस जनजाति के लोग अपना पालन पोषण करने के लिए पेड़ के फल तोड़ते हैं, शिकार करना पसंद करते हैं, मछली पकड़ते हैं और शहद एकत्रित करते हैं l