Logo
ब्रेकिंग
आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी

Congress Mla इरफान अंसारी Vs Bajrang Dal , #the_kerala_story

रामगढ़ : कथित धर्मांतरण पर आधारित फिल्म ‘द केरलास्टोरी’ के फिल्म का ट्रेलर आने के बाद से ही इस पर विवाद छिड़ा हुआ है । 5 मई को सिनेमाघर में फिल्म लगने के बाद से जहां कई राज्य में जहां इसे टैक्स फ्री कर दिया गया है तो कई राज्य ने इस फिल्म को बैन कर दिया है । वही झारखंड के कांग्रेसी विधायक इरफान अंसारी द्वारा इस फिल्म को सिनेमाघरों में नहीं चलने देने और बजरंग दल को उग्रवादी संगठन बताते हुए इसे बैन कराने की जो सार्वजनिक रूप से उन्होंने बात कहीं है।

इस बात से आक्रोशित बजरंग दल सहित विभिन्न हिंदू संगठन के लोग सड़क पर उतर कर विरोध व्यक्त किये हैं और इसी के तहत कुछ दिन पूर्व रामगढ़ के ह्रदय स्थली सुभाष चौक पर विधायक इरफान अंसारी के चित्र पर जूते चप्पल की माला पहना कर उसे आग के हवाले कर दिया ।
वही रामगढ़ के विभिन्न सिनेमाघरों में विभिन्न हिंदू संगठन के लोग डेरा डाले नजर आ रहे हैं और विभिन्न माध्यमों से लोगों से इस फिल्म को देखने की आग्रह अपील करते नजर आ रहे हैं इतना ही नहीं सोशल मीडिया के माध्यम से तो कुछ लोगों ने इस फिल्म देखने जाने वालों के लिए अपनी टैंपू को भी भाड़ा मुक्त कर दिया है।
वही बजरंगदल के विरुद्ध कांग्रेसी विधायक इरफान अंसारी द्वारा दिए गए बयान के खिलाफ जमकर उन पर जुबानी हमला बोला ।
वही फ़िल्म को देखने पहुंची एक युवती सृष्टि मिश्रा और महिला अभिभावक में इस फिल्म के प्रति अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए लोगों से इस फिल्म को देखने का
अपील किया ।
आपको बता दें कि एक तबका जहां इस फिल्म को केरला में हुए कथित धर्मांतरण और अत्याचार की जमीनी हकीकत बताते हुए इस फिल्म को हर हाल में देखने का आग्रह अपील कर रहा है, तो वही दूसरा तबका इस फिल्म को कर्नाटक चुनाव से जोड़ते हुए इसे सिर्फ प्रोपेगेंडा बता रहा है ।