Logo
ब्रेकिंग
Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी पुलिस अधीक्षक के कार्रवाई से पुलिस महकमा में हड़कंप, चार पुलिस कर्मी Suspend रामगढ़ छावनी फुटबॉल मैदान में लगा हस्तशिल्प मेला अब सिर्फ 06फ़रवरी तक l

सुप्रसिद्ध चिकित्सक डॉ अपूर्व सिन्हा द्वारा करीब 50 लोगों का निशुल्क इलाज किया गया ।

रामगढ़ : टीबी एंड चेस्ट क्लिनिक बरियातू, रांची के डॉक्टर अपूर्व सिन्हा द्वारा रविवार को रामगढ़ के रांची रोड स्थित विकास मेडिको में 08:00 बजे से दोपहर 1:00 बजे तक निशुल्क स्वास्थ्य सेवा शिविर का आयोजन किया गया । शिविर के दौरान लगभग 50 वैसे मरीज जिन्हें सांस लेने में तकलीफ, खांसी, खखार, खखार में खून, एलर्जी, टीबी रोग, कोविड-19 संबंधित परेशानी एवं मशीन द्वारा फेफड़ों की भी निशुल्क रूप से जांच की गयी। इस संबंध में बात करते हुए डॉ अपूर्व सिन्हा ने कहा कि झारखंड राज्य एक खनिज प्रधान राज्य है । इसी कारण से बड़ी संख्या में यहां के लोग खनिज संबंधित गतिविधियों से प्रभावित होते हैं।

प्रदूषण के कारण लोगों को कई बार सांस संबंधित तकलीफों का सामना करना पड़ता है लेकिन वे नजरअंदाज करते हैं और जब तक उन्हें पता चलता है कि उन्हें सांस लेने में तकलीफ हो रही है अब उन्हें किसी छाती रोग विशेषज्ञ से मिलना ही होगा तब तक उनका रोग काफी गंभीर रूप ले चुका होता है। वर्तमान में राज्य में छाती रोग विशेषग्यों की संख्या आवश्यकता से कम है। इस तरह के शिविर का आयोजन केवल लोगों को स्वास्थ्य जांच उपलब्ध कराना हीं नहीं है बल्कि लोगों को जागरूक करना भी है कि वे सांस में तकलीफ होने संबंधित विभिन्न कारणों, उपचार के उपायों को जाने एवं अगर कभी उन्हें किसी प्रकार की समस्या हो तो वे त्वरित रूप से अपना इलाज करा सके। साथ हीं उन्होंने बताया अब तक पूरे राज्य में मैंने 25 से भी ज्यादा शिविर आयोजित किए हैं और बड़ी संख्या में लोगों के सांस की तकलीफ का उपचार एवं उन्हें रोग के संबंध में जागरूक किया है साथ ही शिविर के दौरान अब तक लगभग 1000 से भी ज्यादा लोगों का निशुल्क रूप से जांच किया गया है जिसे कराने में बाजार में एक मरीज को कम से कम 2000 से 3000 रुपए तक खर्च करना पड़ता है।