Logo
ब्रेकिंग
आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी

भव्य कलश यात्रा के साथ माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव शुरू

रामगढ़ : क्षेत्र के प्रसिद्ध माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव का शुभारंभ गुरुवार को गाजे-बाजे के साथ निकाली गई कलश यात्रा से हुआ। इस दौरान पूरा शहर जय माता दी के उद्घोष से गूंजता रहा। कलश यात्रा में काफी संख्या में श्रद्धालु महिलाएं लाल चुनरी ओढ़े सिर पर कलश लेकर चल रही थी। शहर भ्रमण के बाद स्थानीय चट्टी बाजार स्थित श्री सत्यनारायण मंदिर से जल उठाया। कलश यात्रा में सुसज्जित वाहन पर माता का विशाल चित्र रखा गया था। इसके पीछे स्थानीय कलाकार भजन गाते हुए चल रहे थे। कलश यात्रा में शामिल महिलाएं और श्रद्धालु माता का जयकारा लगाते हुए चल रहे थे। नगर भ्रमण के दौरान शिवाजी रोड स्थित गुरुद्वारा प्रबंध कमेटी के सदस्यों ने कलश यात्रा का स्वागत किया। इसके अलावे अन्य कई समाजसेवी संस्थाओं ने कलश यात्रा का स्वागत किया व फल प्रसाद का भोग माता रानी को लगाया। कलश यात्रा के आगे शतचंडी यज्ञ के मुख्य यजमान सुमित मारवाह व उनकी पत्नी जया मारवाह साथ-साथ चल रहे थे। इस अवसर पर मंदिर की संचालक संस्था पंजाबी हिन्दू बिरादरी व माता वैष्णों देवी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष सुरत चन्द्र वासुदेव, महासचिव महेश मारवाह, उपाध्यक्ष मनजीत साहनी, सहसचिव हेमेंद्र सौंधी, कोषाध्यक्ष सुशील खोसला, रमण मेहरा, विश्वनाथ अरोड़ा, सुभाष चन्द्र मारवाह, नरेश चन्द्र मारवाह, जेके शर्मा, सुरेन्द्र सोबती, राजीव चड्डा, ओमकार मल्होत्रा, महेन्द्र पाल मारवाह, अजीत अग्रवाल, वेद आनंद, पप्पू सोबती, मनीष मारवाह, विशाल वासुदेव, राजा मारवाह सहित बिरादरी के सभी सदस्यों के अलावे श्रद्धालु शामिल थे।
ज्ञात हो कि आज से 32 वर्ष पूर्व स्थानीय झंडा चौक स्थित माता वैष्णों देवी मंदिर में माता की भव्य प्रतिमा स्थापित की गई थी। लोगों का कहना है कि आज से 32 वर्ष पूर्व काफी आश्चर्यजनक तरीके से माता की प्रतिमा स्थापित हुई थी। लोग बताते हैं कि प्रतिमा स्थापना के वक्त काफी संख्या में लोग प्रतिमा को उठाकर नियत स्थान पर बैठा रहे थे, लेकिन प्रतिमा को लोग उठा नहीं पाए। इसके बाद काशी व अन्य स्थान से आए पंडितों ने काफी अनुष्ठान व धार्मिक क्रियाएं की, इसके बाद एक तेज आवाज हुई और धरती में कंपन हुआ। इसी के साथ प्रतिमा नियत स्थान पर स्थापित हो सकी। आवाज इतनी तेज थी कि इसकी आवाज पूरे रामगढ़ वासियों ने सुनी। रामगढ़ के लोग इसकी पुष्टि भी करते हैं, इसके बाद प्रत्येक वर्ष प्रतिमा स्थापना की वर्षगांठ मनाई जाती है। वर्ष में तीन बार भंडारे का आयोजन ट्रस्ट द्वारा किया जाता है। मंदिर के गुंबद को 30 फीट तक सोने से मढ़ा गया है। मंदिर के ऊपर सोने का छत्र बनाया गया है। तीनों भंडारे में लोगों की अपार भीड़ होती है।