Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

सत सांई पब्लिक स्कूल में हुआ हिंदी साहित्य का बखान । 

सत सांई पब्लिक स्कूल में हुआ हिंदी साहित्य का बखान ।

चितरपुर : राष्टीय हिन्दी दिवस सत सांई पब्लिक स्कूल, लारी में बडे़ धुम-धाम के साथ मनाया गया। हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य में विद्यालय के बच्चों के बीच रामायण कि चौपाई के साथ क्यूज प्रतियोगिता, निबंध लेखन, कबिता लेखन के अलावे और भी अनेक कार्यक्रम किऐ गए। विद्यालय के सचिव विजय प्रभाकर ने हिन्दी की महत्व को बताते हुए बच्चों को हिन्दी का प्रयोग अधिक से अधिक मात्रा में करने को कहा जिससे मातृ भाषा को सम्मान एवम प्रतिष्ठा मिल सके। हिंदी भाषा के प्रचार-प्रसार और प्रोत्साहित करने के लिए हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है. विश्व में करीब 420 मिलियन लोग हिंदी को मातृ भाषा के रूप में और करीब 120 मिलियन लोग दूसरी भाषा के रूप में बोलते हैं. इसी क्रम में 14 सितंबर से 21 सितंबर तक हिंदी सप्ताह या राजभाषा सप्ताह के रूप में मनाया जाता है. इस दौरान हिंदी भाषा से जुड़ी कई प्रतियोगिताओं और कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है. विद्यालय के प्रधानाचार्य प्रकाश कसेरा ने बताया कि हिदी केवल एक भाषा नहीं है, बल्कि हिदी प्रेमियों के लिए जीवन का सहारा है। भारत की आजादी के बाद सबसे बड़ा मुद्दा भाषा का था, जिसे भारतीय संविधान सभा ने बड़े विचार विमर्श के बाद हिदी को राज भाषा का दर्जा देकर सुलझाया। 14 सितंबर 1949 में हिदी को राज भाषा के रूप में स्वीकारा गया और पहली बार 1952 में हिदी दिवस का आयोजन किया गया। हिन्दी के प्रयोग से अंतरराष्टीय पहचान बनेगी क्योंकि हिन्दी पूरे विश्व में दूसरी सबसे अधिक बोली जाने वाले भाषा है। हिन्दी हम भारतीयों पहचान है।

चितरपुर से सौरव वर्मा की रिपोर्ट