Logo
ब्रेकिंग
मॉबली*चिंग के खिलाफ भाकपा-माले ने निकाला विरोध मार्च,किया प्रदर्शन छावनी को किसान सब्जी विक्रेताओं को अस्थाई शिफ्ट करवाना पड़ा भारी,हूआ विरोध व गाली- गलौज सूक्ष्म से मध्यम उद्योगों का विकास हीं देश के विकास का उन्नत मार्ग है बाल गोपाल के नए प्रतिष्ठान का रामगढ़ सुभाषचौक गुरुद्वारा के सामने हुआ शुभारंभ I पोड़ा गेट पर गो*लीबारी में दो गिर*फ्तार, पि*स्टल बरामद Ajsu ने सब्जी विक्रेताओं से ठेकेदार द्वारा मासूल वसूले जाने का किया विरोध l सेनेटरी एवं मोटर आइटम्स के शोरूम दीपक एजेंसी का हूआ शुभारंभ घर का खिड़की तोड़ लाखों रुपए के जेवरात कि चोरी l Ajsu ने किया चोरों के गिरफ्तारी की मांग I 21 जुलाई को रामगढ़ में होगा वैश्य समाज के नवनिर्वाचित सांसद और जनप्रतिनिधियों का अभिनंदन l उपायुक्त ने कि नगर एवं छावनी परिषद द्वारा संचालित योजनाओं की समीक्षा।

सत सांई पब्लिक स्कूल में हुआ हिंदी साहित्य का बखान । 

सत सांई पब्लिक स्कूल में हुआ हिंदी साहित्य का बखान ।

चितरपुर : राष्टीय हिन्दी दिवस सत सांई पब्लिक स्कूल, लारी में बडे़ धुम-धाम के साथ मनाया गया। हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य में विद्यालय के बच्चों के बीच रामायण कि चौपाई के साथ क्यूज प्रतियोगिता, निबंध लेखन, कबिता लेखन के अलावे और भी अनेक कार्यक्रम किऐ गए। विद्यालय के सचिव विजय प्रभाकर ने हिन्दी की महत्व को बताते हुए बच्चों को हिन्दी का प्रयोग अधिक से अधिक मात्रा में करने को कहा जिससे मातृ भाषा को सम्मान एवम प्रतिष्ठा मिल सके। हिंदी भाषा के प्रचार-प्रसार और प्रोत्साहित करने के लिए हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है. विश्व में करीब 420 मिलियन लोग हिंदी को मातृ भाषा के रूप में और करीब 120 मिलियन लोग दूसरी भाषा के रूप में बोलते हैं. इसी क्रम में 14 सितंबर से 21 सितंबर तक हिंदी सप्ताह या राजभाषा सप्ताह के रूप में मनाया जाता है. इस दौरान हिंदी भाषा से जुड़ी कई प्रतियोगिताओं और कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है. विद्यालय के प्रधानाचार्य प्रकाश कसेरा ने बताया कि हिदी केवल एक भाषा नहीं है, बल्कि हिदी प्रेमियों के लिए जीवन का सहारा है। भारत की आजादी के बाद सबसे बड़ा मुद्दा भाषा का था, जिसे भारतीय संविधान सभा ने बड़े विचार विमर्श के बाद हिदी को राज भाषा का दर्जा देकर सुलझाया। 14 सितंबर 1949 में हिदी को राज भाषा के रूप में स्वीकारा गया और पहली बार 1952 में हिदी दिवस का आयोजन किया गया। हिन्दी के प्रयोग से अंतरराष्टीय पहचान बनेगी क्योंकि हिन्दी पूरे विश्व में दूसरी सबसे अधिक बोली जाने वाले भाषा है। हिन्दी हम भारतीयों पहचान है।

चितरपुर से सौरव वर्मा की रिपोर्ट