रेलवे ने रवि किशन की फिल्म की शूटिंग रोकी, निराश लौटे फिल्म अभिनेता

तीन वैनिटी वैन के साथ पहुंची थी फिल्म की टीम

रामगढ़ : रेलवे विभाग द्वारा हिन्दी फिल्म ‘वर्चस्व’ की शूटिंग की अनुमति नहीं मिलने से फिल्म स्टार सह भाजपा सांसद रवि किशन को निराशा हांथ लगी। शुक्रवार को झारखंड के भुरकुंडा रेलवे स्टेशन व कोयला साइडिंग में फिल्म का दृश्य फिलमाना था। अपनी पूरी टीम के साथ फिल्म के अभिनेता रवि किशन भुरकुंडा पहुंचे थे। फिल्म के पहले दृश्य रवि किशन को रेलवे स्टेशन व साइडिंग में एंबेस्डर कार से प्रवेश करने का था। कार में बैठ कर ज्योहिं अभिनेता साइडिंग पहुंचे तो आरपीएफ बरकाकाना रेलवे की टीम ने फिल्म की शूटिंग करने से उन्हें रोक दिया।
बताया जाता है कि शूटिंग के लिए रेलवे विभाग से लिखित अनुमति नहीं मिली थी। शूटिंग न होने से नाराज अभिनेता रवि किशन स्थानीय टीम को जमकर फटकार भी लगाई। शूटिंग के लिए फिल्म की टीम घंटों मशक्कत करती रही। लेकिन अनुमती नहीं मिली। आखिरकार रवि किशन को बिना शूटिंग किए वापस लौटना पड़ा। भुरकुंडा रेलवे स्टेशन फोर लेन सड़क पर होने के कारण शूटिंग की खबर सुन भारी संख्या में राहगिर व स्थानीय लोगों की भीड़ उमड़ी थी। बताया जाता हे कि टीम गुरुवार को भी पतरातू स्टेशन में शूटिंग के लिए पहुंची थी। वहां भी शूटिंग की अनुमती नहीं मिली थी।

तीन वैनिटी वैन के साथ पहुंची थी फिल्म की टीम

भुरकुंडा में फिल्म की शूटिंग को ले पूरी टीम तीन वैनिटी वैन के साथ पहुंची थी। खुद अभिनेता रवि किशन रेंज रोवर जैसी महंगी गाड़ी से पहुंचे थे। फिल्म का दृश्य फिल्माने के लिए महंगे-मंहगे कैमेरों से लेश थी। अभिनेताओं के सुरक्षा के लिए कई बाउंसर भी तैनात थे। बताते चलें कि वैनिटी वैन में अभिनेताओं के आराम के साथ-साथ मेकअप व साज-सज्जा की पूरी व्यवस्था रहती है।

कोयला व्यवसाय में माफिया व गुटबाजी पर आधारित है फिल्म वर्चस्व

बॉलीवुड में अपराध व दंबग माफियाओं की कहानी फिल्म मेकर्स को बहुत आकर्षित किया है। गैंग्स आफ वासेपूर, मिर्जापूर, रक्तांचल आदि फिल्मों को दर्शकों ने बहुत सराहा है। इसी को देखते हुए कुर्जी प्रोडक्शन के वैनर तले कोयला खान के व्यवसाय में माफिया ताकत व गुटबाजी पर आधारित फिल्म वर्चस्व एन एब्सोल्यूट फिल्म बन रही है। इस फिल्म में अक्षय ओबराय, रवि किशनु, त्रिधा चौधरी , गोविंद नामदेव, मुकेश तिवारी, कोयलांचल सिरका के मनीष सिंह आदि कलाकार काम कर रहे हैं। फिल्म के कास्टिंग डायरेक्टर मुकेश छावड़ा हैं। जबकि स्क्रीन प्ले व डायलॉग संजय मासुम ने लिखा है। फिल्म के निदेशक मनीष सिंह हैं।

Whats App