एकीकृत बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री बिहार केसरी डॉ श्री कृष्ण सिंह की जयंती हर्षोल्लास के साथ सम्पन्न

बतौर मुख्यातिथि पूर्व सांसद डॉ रविंद्र राय और विधायक ममता देवी की उपस्थिति रही

yamaha

रामगढ़ : असेश्वर सिंह ब्रह्मर्षि धर्मशाला, रामगढ़ में आज एकीकृत बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री बिहार केसरी डॉक्टर श्री कृष्ण सिंह उपाध्य की जयंती हर्षोल्लास के साथ मनाया गया । कार्यक्रम के उद्घाटन करता कोडरमा के पूर्व सांसद डॉ रविंद्र कुमार राय और मुख्य अतिथि रामगढ़ के विधायक ममता देवी की उपस्थिति में जयंती समारोह का शुभारंभ श्री बाबू के चित्र पर पुष्पांजलि एवं दीप प्रज्वलन कर की गई। कार्यक्रम की अध्यक्षता ब्रह्मर्षि समाज रामगढ़ के अध्यक्ष रविंद्र प्रसाद शर्मा तथा मंच संचालन डॉक्टर संजय सिंह ने किया। कार्यक्रम में सर्वप्रथम मंचासीन अतिथियों को समाज के पदाधिकारियों ने पुष्पगुच्छ देकर एवं बैच लगाकर स्वागत किया, तदुपरांत कार्यक्रम में उपस्थित आगंतुक अतिथियों का स्वागत संबोधन संरक्षक सीपी संतन ने किया।
उन्होंने कहा कि कहा की हमारा समाज का इतिहास गौरवशाली रहा है आज बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री श्री बाबू की जयंती के पावन अवसर पर अतिथियों का स्वागत करते हैं और श्री बाबू के व्यक्तित्व और कृतित्व का गुणगान करना सूरज को दीपक दिखाने के जैसा है उद्घाटन करता डॉ रविंद्र कुमार राय ने सबसे पहले धर्मशाला के मुख्य द्वार का विधिवत कर कमलों द्वारा उद्घाटन करते हुए कहा की धन्यवाद व्यक्ति है जो अपने माता पिता की स्मृति में समाज को कुछ देने का काम करता है चाहे वह भू दाता स्वर्गीय से स्वर सिंह का परिवार हो या मुख्य द्वार का निर्माण करता आदर्श चौधरी हो या समाज के अन्य दानवीर असंख्य लोग हो सभी का योगदान सराहनीय है, श्री बाबू एक ऐसे महान विभूति थे जो बिहार को दशा और दिशा देने में मील का पत्थर साबित हुए थे उनके कुशल नेतृत्व में शासन प्रशासन के साथ समाज के सभी वर्गों को साथ लेकर बिहार के लोकतांत्रिक व्यवस्था में अग्रणी भूमिका काबिले तारीफ है चाहे वह छात्र आंदोलन की बात हो या किसान आंदोलन की बात हो, या समाज के किसी समस्या से जुड़े हुए समाधान की चिंता करते हुए कृषि और उद्योग के समुचित विकास के लिए बिहार को आधुनिक विहार बनाने में उनकी कोई सानी नहीं है।
मुख्य अतिथि रामगढ़ के विधायक ममता देवी ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा की आज हम एक ऐसे बिहार केसरी श्री बाबू की जयंती के अवसर पर मुझे ब्रह्मर्षि समाज ने आमंत्रित किया है हम समाज के प्रति आभार व्यक्त करते हैं और समाज को यह विश्वास दिलाना चाहते हैं कि हम भी श्री बाबू के पद चिन्हों पर चलकर समाज के उत्थान और झारखंड के विकास में अपना योगदान देते रहेंगे ब्रह्मर्षि समाज के बीच आकर आज मुझे खुशी हो रही है कि यह समाज केवल बुद्धिजीवी ही नहीं है बल्कि हर समाज हर वर्ग और हर तबके के लोगों को सहयोग और विकास कार्यों में अग्रणी भूमिका निभाते आ रहे हैं श्री बाबू के व्यक्तित्व और कृतित्व काफी विराट है इनके बारे में जितना कुछ कहा जाए वह बिल्कुल कम ही होगा समारोह को प्रोफेसर केके शर्मा, प्रकाश मिश्रा, रामपुकार शर्मा, जय नंदन शर्मा, मुन्ना पासवान, दरोगा राय, नवल किशोर सिंह, राजकुमार चौधरी आदि ने संबोधित किया । इस अवसर पर कोरोनावायरस से फैली महामारी से पीड़ित लोगों की सेवा करने में समाज के लोगों ने भी बढ़-चढ़कर योगदान दिया है ।
इस सेवा भाव के लिए डॉ राजेश कुमार कश्यप और पंकज कुमार सिंह को डॉ रविंद्र कुमार राय ने शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया निश्चित तौर पर सेवा परमो धर्म की भावना को चरितार्थ करते हुए हमारा समाज ऐसे महामारी में सेवा करने के लिए उन्हें सम्मानित किया गया है ।
इस अवसर पर विभाग सिंह, नवल किशोर शर्मा अशोक सिंह, संत सिंह, अनमोल कुमार सिंह, सुरेंद्र शर्मा, ओमप्रकाश सिंह, वीरन सिंह, परमानंद सिंह, राम पदार्थ सिंह, रामप्रवेश सिंह, उमेश सिंह, दिलीप सिंह, मनोज सिंह, मनोज राय, दिवाकर सिंह, नारायण सिंह, रामपुकार शर्मा, शशि सिंह, विकास पांडे, राम नवल पांडे, अजय सिंह, रंजीत कुमार, संजय सिंह, अनिरुद्ध सिंह, सत्येंद्र सिंह, प्रियरंजन हरिकांत, दयानंद ठाकुर, प्वाइजन सिंह, हरे कृष्ण शर्मा, राजीव शांडिल्य जीएस राय, शंभू सिंह, राम आशीष कुमार, जयनंदन शर्मा, प्रोफेसर केके शर्मा गौरव प्रधान आदि कई लोगो की विशेष मौजुदगी रही।

raja moter
Leave A Reply

Your email address will not be published.