Logo
ब्रेकिंग
रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी पुलिस अधीक्षक के कार्रवाई से पुलिस महकमा में हड़कंप, चार पुलिस कर्मी Suspend रामगढ़ छावनी फुटबॉल मैदान में लगा हस्तशिल्प मेला अब सिर्फ 06फ़रवरी तक l असामाजिक तत्वों ने देवी देवताओं की मूर्ति को किया क्षतिग्रस्त, गुस्साए ग्रामीणों ने किया सड़क जाम l

रामगढ़ की पावन धरती पर 1940 में महात्मा गांधी का हुआ था आगमन

बापू गांधी ने इस अधिवेशन के माध्यम से आजादी को लेकर यहीं से हुंकार भरी थी

रामगढ़ की पावन धरती पर 1940 में महात्मा गांधी का हुआ था आगमन
देश के साथ – साथ रामगढ में भी गांधी जयंती मनाई गई।

रामगढ़ की पावन धरती पर 1940 में हुआ था कांग्रेस का अधिवेशन

बापू गांधी ने इस अधिवेशन के माध्यम से आजादी को लेकर यहीं से हुंकार भरी थी

बापू गांधी के साथ सुभाष चंद्र बोस का भी हुआ था

नरम दल और गरम दल की हुई थी अस्थापना

गांधीजी के मृत्यु के उपरांत यही मुक्तिधाम पर दामोदर नदी के घाट पर उनका अस्थि कलश विसर्जित किया गया था

रामगढ़ : झारखंड के रामगढ जिला के दामोदर नदी किनारे मुक्तिधाम में गांधी जी के स्थापित अस्थि कलश (राजघाट) में लोगो ने पुष्पांजलि देकर भजन कीर्तन कर गांधी जी को याद किया।
गांधी जी के साथ साथ लाल बहादुर शास्त्री को भी याद किया गया । 
गांधी जयंती के मौके पर मुक्तिधाम संस्था परिवार के साथ साथ शहर के कई गणमान्य लोग जिला उपायुक्त माधवी मिश्रा की विशेष मौजूदगी में महात्मा गांधी के प्रति श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए पुष्पांजलि अर्पित की और बापू के बताए मार्ग पर चलने का संकल्प लेते हुए भजन कीर्तन किया।
मुक्तिधाम से संबंधित इतिहास के बारे में विशेष जानकारी देते हुए रामगढ़ समाजसेवी कमल बगड़िया ने कहा कि रामगढ़ एक ऐतिहासिक धरती है जहां
1940 में रामगढ में कांग्रेस का अधिवेशन हुआ था जिसमें में गांधी जी के साथ उस वक्त के कई दिग्गज नेता यहां रामगढ़ आए थे और बापू ने इसी स्थल से आज़ादी को लेकर हुंकार भरी थी, रामगढ़ में गांधी जी के साथ सुभाष चंद्र बोस जी का भी आगमन हुआ था और यहीं पर नरम दल और गरम दल की स्थापना भी हुई थी और यही वह पवित्र स्थल है जहां पर बापू गांधी की अंत्येष्टि के उपरांत उनकी अस्थि कलश को यहां दामोदर नदी में प्रवाहित किया गया था।