Logo
ब्रेकिंग
आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी

एमपीपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा 11 अप्रैल को, शहर में बनाए 67 केंद्र

ग्वालियर। मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग एमपीपीएससी 2020 की प्रारंभिक परीक्षा 11 अप्रैल को होगी। इस परीक्षा से तय 235 पदों को भरा जाएगा। इसके लिए शहर में 67 परीक्षा केंद्र बनाए गए है, जहां 25 हजार विद्यार्थी प्रारंभिक परीक्षा देने के लिए पहुंचेंगे। इससे पहले आयोग छह से दस अप्रैल के बीच वेबसाइट पर प्रवेश पत्र अपलोड करेगा। परीक्षा देने वाले सभी परीक्षार्थियों को कोविड-19 के सभी नियमों का सख्ती से पालन करना होगा। मास्क, सैनिटाइजेशन और दो गज की दूरी अनिवार्य रहेगी। स्क्रीनिंग के दौरान जिसका तापमान सामान्य से अधिक पाया जाएगा, उसे अलग कमरे में बैठकर प्रारंभिक परीक्षा देना होगी।

एडमिशन फेयर से चुना लाड़ले के लिए स्कूलः सनवैली के पास स्थित नवनिर्मित प्रगति विद्यापीठ कैंपस में शनिवार से दो दिवसीय एडमिशन फेयर शुरू हुआ। इसमें कई परिवार पहुंचे। जिन्होंने स्कूल के इंफ्रास्ट्रक्चर और वहां की गतिविधियों के बारे में विस्तार से जाना। स्कूली शिक्षकों ने अभिभावकों की शंकाओं का समाधान किया। बच्चों के लिए आर्ट अटैक, ट्रेजर हंट, फ्रिज डांस और स्पिन अ व्हील गतितिविधियों का संचालन किया गया। कई अभिभावकों ने कैंपस से बाहर निकलते समय अपने लाड़ले या लाड़ली के लिए एडमिशन प्रक्रिया पूरी की।

कार्यशाला में हुई दिव्यांगों को मिलने वालीं सुविधाओं पर चर्चाः भारतीय पुनर्वास परिषद एवं संस्था सिद्धेश्वर महाराज विकलांग कल्याण शिक्षा व समाज कल्याण समिति ने दिव्यांगजन कार्यशाला का आयोजन किया। इसमें ओलंपिक भारत के स्टेट खेल निदेशक एतिसमुद्दीन, प्रदेश सचिव राजेंद्र पाराशर, जिला शिक्षा केंद्र की एपीसी आइईडी कृष्णा अग्रवाल, संभाग सचिव रामधुन सिंह राठौर, जिला ग्वालियर के सचिव डा. मानवेंद्र सिंह और समाजसेवी राकेश पचौरी विशेषरूप से मौजूद थे। सभी विशेषज्ञों ने कार्यक्रम में दिव्यांगों के उत्थान के लिए संचालित की जा रहीं योजनाओं पर विस्तार से प्रकाश डाला। अंत में प्रतिभागियों को प्रमाणपत्र वितरित किए गए।