Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

धर्म का काम करने के बाद उसका श्रेय नहीं लेना चाहिए

ग्वालियर। मनुष्य को धर्म के काम में बढ़चढ़कर हिस्सा लेना चाहिए। इससे मनुष्य के कर्म बढ़ते हैं, लेकिन साथ ही धर्म का काम करने के बाद उसका श्रेय नहीं लेना चाहिए। ऐसा करने पर यह काम धर्म में नहीं आता। मनुष्य को क्रोध कम करना चाहिए। क्रोध से जहां शरीर का नाश होता है वहीं परिवार बिखरने का भी खतरा रहता है। यह बात मुनिश्री विहर्ष सागर महाराज ने बुधवार को नई सड़क स्थित चंपाबाग धर्मशाला में आठ दिवसीय अष्टान्हिका पर्व अनुष्ठान महोत्सव में कही। मुनिश्री विजयेश सागर महाराज भी मौजूद थे। मुनिश्री ने कहा कि सुखी कौन है और दुखी कौन है, ये बात श्रीमहावीर स्वामी से श्री गौतम स्वामी ने पूछा था। तब भगवान महावीर स्वामी ने कहा था कि हम अपने घर में भी रहकर सुखी रह सकते हैं। किसी को सुख देने में भी खुशी मिलती है। जब हमारा मन शांत हो शांति हो, किसी से ईर्ष्या हो यानि क्रोध, लोभ, मोह, माया, मान इन सबसे परे हो तो हमारा घर स्वर्ग है। मेरी तो भावना है कि कोई पाप न करे, पुण्य कर उसका फल भोगे। उन्होने कहा कि मनुष अपने माता-पिता की सेवा नहीं करते वे इस जन्म में सुखी नहीं होते हैं। जो मनुष्य माता-पिता का दोष देखे, उनमें कभी बरकत ही नहीं आती। पैसेवाला बने शायद, पर उसकी आध्यात्मिक उन्नति कभी नहीं होती। माता-पिता का दोष नहीं देखना चाहिए। माता-पिता की सेवा करना वह धर्म की संस्कृति है। वह तो चाहे कैसे भी हिसाब हो, पर यह सेवा करना हमारा धर्म है और जितना हमारे धर्म का पालन करेंगे, उतना सुख हमें प्राप्त होगा। मुनिश्री विहर्ष सागर महाराज अपने मुख्यबिंद से मंत्रो का उच्चारण के साथ कोरोना महामारी की समाप्ति आैर विश्वशांति की कामना के लिए अग्निकुंड में जैन समाज के लोगों ने आहुतियां दी। आयोजक आर्शमय पावन वर्षायोग समिति 2020 ग्वालियर एवं जैन मिलन ग्वालियर की ओर से चम्पाबाग धर्मशाला, नई सड़क पर आठ दिवसीय अष्टान्हिका पर्व अनुष्ठान में भक्तिमय संगीत के साथ मुनिश्री के सानिध्य में भगवान आदिनाथ का अभिषेक व शांतिधारा एवं अभिषेक के उपरांत अर्घ्य समर्पित किए गए।