Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

अयोध्यापुरी में 25 प्लाटों पर एक से अधिक रजिस्ट्री, अब तक नहीं आए 22 भूखंडों के दस्तावेज

इंदौर। देवी अहिल्या श्रमिक कामगार गृह निर्माण सहकारी संस्था की अयोध्यापुरी कालोनी में करीब 25 भूखंड ऐसे हैं जिनकी दो अलग-अलग लोगों को रजिस्ट्रियां हैं। इन रजिस्ट्रियों की जांच में बाद वाली रजिस्ट्री अवैध साबित होगी। कालोनी में कुल 369 भूखंड हैं जिसमें से अब तक 265 भूखंडों की रजिस्ट्रियां संस्था ने जुटा ली हैं। करीब 22 भूखंडों की रजिस्ट्रियां और दस्तावेज सदस्यों ने अब तक संस्था के पास जमा नहीं किए हैं। संस्था में दस्तावेजों के सत्यापन और संकलन का काम अब भी जारी है।

प्रशासन द्वारा भू-माफिया के खिलाफ चलाए गए अभियान में इस संस्था को प्राथमिकता पर लिया गया है। इसमें सदस्यों को उनके भूखंड पर कब्जा दिलाने के साथ ही भू-माफिया को अवैध तरीके से बेची गई संस्था की जमीनें भी वापस लाने की प्रक्रिया चल रही है। संस्था की जमीन सिम्प्लेक्स कंपनी और केएस सिटी को बेचे जाने के प्रमाण पहले ही मिल चुके हैं। जमीन के इन हिस्सों की रजिस्ट्री कोर्ट से निरस्त करवाकर इसे वापस संस्था के सुपुर्द किया जाएगा। बताया जाता है कि एक ही भूखंड की दो बार अलग-अलग लोगों को रजिस्ट्री करने में संस्था के पूर्व पदाधिकारियों के अलावा सहकारिता विभाग के तत्कालीन प्रशासकों का भी हाथ है।

इनमें संस्था के पूर्व अध्यक्ष के अलावा सहकारिता विभाग के कर्मचारी और प्रशासक रहे सत्येंद्र ओझा और महेंद्र श्रीवास्तव का नाम सामने आया है। ऐसी रजिस्ट्रियां वर्ष 2004 से 2006 के बीच हुई हैं। संस्था में 70-72 सदस्य ऐसे भी हैं जिनको भूखंड का आवंटन तो है लेकिन रजिस्ट्री नहीं हुई है। इन सदस्यों के पैसे जमा हैं और इनके पास जमा पैसे की रसीदें भी हैं। संस्था की ओर से ऐसे सदस्यों को भूखंड की रजिस्ट्री कराई जाएगी। उधर एमआर-9 और एमआर-10 के बीच श्री महालक्ष्मी नगर कालोनी में भी देवी अहिल्या सोसाइटी की जमीन है। यहां संस्था के करीब 200 सदस्यों को भूखंड का पंजीयन किया गया है।