Logo
ब्रेकिंग
Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी पुलिस अधीक्षक के कार्रवाई से पुलिस महकमा में हड़कंप, चार पुलिस कर्मी Suspend रामगढ़ छावनी फुटबॉल मैदान में लगा हस्तशिल्प मेला अब सिर्फ 06फ़रवरी तक l

आज ही गिरी थी कमलनाथ सरकार, जीतू बोले- लोकतंत्र की हत्यारिन है BJP

इंदौर : एक साल पहले आज ही के दिन प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा था। साथ ही 15 वर्षों बाद सत्ता में आई कांग्रेस सरकार 15 महीने में ही गिर गई थी। बता दें कि एक तरफ जहां भाजपा आज के दिन को सिंधिया के साथ आने पर जश्न के रूप में मना रही है, वही कांग्रेस आज लोकतंत्र सम्मान दिवस मनाकर सरकार की खिलाफत को जाहिर कर रही है। इसी कड़ी में आर्थिक राजधानी इंदौर में भी कांग्रेस कार्यालय पर कांग्रेसी जुटे और संविधान की रक्षा करने का प्रण लिया।

इस आयोजन में पूर्व मंत्री जीतू पटवारी, सज्जन वर्मा और कांग्रेस विधायकों सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता शामिल हुए। बताया जा रहा है कि आयोजन के दौरान पूर्व सीएम के सन्देश का वीडियो भी प्रसारित किया गया। कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं ने पार्टी का झंडा लेकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और डॉ भीमराव अम्बेडकर की तस्वीरों पर माल्यार्पण किया। वहीं इस दौरान पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने कहा कि संविधान निर्माता बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर के आदर्शों को भूलकर भाजपा ने आज ही के दिन लोकतंत्र की हत्या की थी। पूरे देश में भाजपा सरकार इसी तरह लोकतंत्र की हत्या कर रही है।

भले ही आज प्रदेश में भाजपा सरकार काबिज है लेकिन प्रदेशवासी सरकार की हकीकत जानते हैं। मध्य प्रदेश में जनता द्वारा चुनी हुई सरकार को गिराने के लिए बीजेपी ने संविधान की मूलभावना को तार-तार कर लोकतंत्र को खतरे में डाला। वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस से बगावत कर दी थी। सिंधिया के साथ 22 विधायकों ने भाजपा का दामन थाम लिया था। इस कारण 20 मार्च 2020 को कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ गई थी। इसके बाद में 23 मार्च को शिवराज सिंह सरकार एक बार फिर सत्ता में लौटी थी।