Logo
ब्रेकिंग
माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव भंडारा के साथ संपन्न युवक ने प्रेमिका के लवर को उतारा मौत के घाट, वारदात को अंजाम देकर कुएं में फेंकी लाश । 1932 खतियान राज्यपाल ने किया वापस, झामुमो में आक्रोश, किया विरोध, फूंका प्रधानमंत्री का पुतला । रामगढ़ विधानसभा उपनिर्वाचन 2023 के मद्देनजर उपायुक्त ने की प्रेस वार्ता कराटे बेल्ट ग्रेडेशन टेस्ट सह प्रशिक्षण शिविर में 150 कराटेकार शामिल, उत्कृष्ट प्रदर्शनकारी को मिला ... श्रीराम सेना के विशाल हिंदू सम्मेलन में राष्ट्रवादी प्रखर प्रवक्ता पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ और अंतरराष्... भव्य कलश यात्रा के साथ माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव शुरू रामगढ़ में मनाया गया 74 वां गणतंत्र दिवस, विभिन्न कार्यालयों द्वारा निकाली गई झांकी माँ की ममता से दूर जेल में बंद पूर्व विधायक मामता देवी का दूधमुहा बच्चा बीमारी की गिरफ्त में । माता वैष्णों देवी मंदिर के 32वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 26 को

रामगढ़ के मुक्तिधाम गाँधीघाट में महात्मा गांधी को उनकी पुण्यतिथि पर भावभीनी श्रद्धांजलि दी गई

रामगढ़ मुक्तिधाम में राष्ट्रपिता के मरणोपरांत उनके अस्थि कलश को स्थापित किया गया था

Ramgarh/News lens:रामगढ़ जिले के दामोदर नद के तट पर स्थित मुक्तिधाम गाँधीघाट में आज राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को उनकी पुण्यतिथि पर भावभीनी श्रद्धांजलि दी गई। रामगढ़ जिले का यह स्थान देश के उन 16 जगहों में शुमार है जहां राष्ट्रपिता के मरणोपरांत उनके अस्थि कलश को स्थापित किया गया था। इस मुक्तिधाम में शहर के प्रबुद्ध जनों ने पहुंचकर गांधीजी के तस्वीर पर पुष्पांजलि देकर उनके प्रति अपनी श्रद्धा सुमन व्यक्त की।

इस मौके पर गांधी जी के प्रिय भजनों को दुहराते हुए लोगों ने उनके रास्ते पर चलने का संकल्प लिया। मौके पर मुक्तिधाम संस्था के प्रमुख कमल बगड़िया ने बताया कि इस स्थान का महत्व आज इसलिए है कि गांधी जी के मरणोपरांत उनकी एक अस्थि कलश यहां पर स्थापित कि गयी थी।

मौके पर बापू को अपने श्रद्धा सुमन देने पहुंचे कांग्रेस पार्टी के सेंट्रल कमेटी के सदस्य शाहजादा अनवर ने बताया कि वर्षों पुरानी इस परंपरा को मुक्तिधाम में आज भी रामगढ़ वासियों ने जिंदा रखा है क्योंकि बापू के विचारों की प्रसंगिकता आज पहले से ज्यादा बढ़ गई है । वह भी ऐसे समय में जब आज देश में संप्रदायिकता, वैमनस्यता और कटुता का षड्यंत्र चल रहा है क्योकि गांधीजी ने पूरे विश्व में प्रेम, भाईचारगी और बंधुत्व को बढ़ावा दिया ।

nanhe kadam hide