Logo
ब्रेकिंग
रामगढ़ की बेटी महिमा को पत्रकारिता में अच्छा प्रदर्शन के लिए किया गया सम्मानित Bjp प्रत्याशी ढुल्लु महतो के समर्थन में विधायक सरयू राय के विरुद्ध गोलबंद हूआ झारखंड वैश्य समाज l हजारीबाग लोकसभा इंडिया प्रत्याशी जेपी पटेल ने किया मां छिनमस्तिका की पूजा अर्चना l गांजा तस्कर के साथ मोटासाइकिल चोर को रामगढ़ पुलिस ने किया गिरफ्तार स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l

शहर के बीच किराना दुकान में शराब की अवैध बिक्री

बिलासपुर।  शहर व आसपास के क्षेत्रों में शराब की अवैध बिक्री से पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठने लगा है। शहर के मध्य तेलीपारा में दरबार लाज के पास किराना दुकान में अवैध शराब की बिक्री हो रही थी। पुलिस ने दबिश देकर आरोपित दुकान संचालक को पकड़ लिया है। सिटी कोतवाली सीएसपी को शिकायत मिली तेलीपारा स्थित दरबार लाज के पास किराना दुकान में खुलेआम शराब की अवैध बिक्री चल रही है। इस पर उन्होंने टीआइ शीतल सिदार को कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

इस पर पुलिस की टीम मौके पर पहुंचकर दुकान की तलाशी ली। इस दौरान पुलिस ने संजय मिश्रा पिता बालमुकुंद मिश्रा (32) की दुकान से आठ पाव देसी शराब जब्त किया। इस पुलिस आरोपित पकड़ कर थाने ले गई। उसके खिलाफ आबकारी एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है। इसी तरह हिर्री क्षेत्र के बोड़सरा स्थित किराना दुकान में भी महुआ शराब बेचने की शिकायत मिली थी।

इस पर पुलिस की टीम गांव पहुंच गई। इस दौरान त्रियोगीनाराण दुबे पिता स्व. लक्ष्मीप्रसाद दुबे अपनी दुकान में दस लीटर के जेरीकेन में सात लीटर महुआ शराब छिपाकर रखा था। शराब को जब्त कर पुलिस आरोपित दुकान संचालक को पकड़कर थाने ले गई। उसके खिलाफ आबकारी एक्ट के तहत गैरजमानतीय प्रकरण दर्ज कर उसे गिरफ्तार किया गया है

शहर में जगह-जगह चल रही अवैध बिक्री

शहर के स्लम एरिया के साथ ही रिहायशी इलाकों में शराब की अवैध बिक्री चल रही है। इसके बाद भी पुलिस ने इसे अपनी कमाई का जरिया बना लिया है। यही वजह है कि अवैध शराब कारोबारियों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई नहीं की जाती। अफसरों को दिखाने के लिए पुलिस जमानतीय प्रकरण दर्ज कर खानापूर्ति कर लेती है।