Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

लगातार तीसरे दिन रंगून गार्डन के अवैध निर्माण तोड़ने पहुंचा अमला

इंदौर। नगर निगम का रिमूवल अमला रविवार सुबह से फिर स्कीम-134 के पास स्थित रंगून गार्डन का अवैध निर्माण तोड़ने की कार्रवाई करने पहुंचा है। गार्डन में जगह-जगह पाथ वे बनाए गए हैं, जिनमें इंटरलाकिंग टाइल्स लगाई गई हैं। निगम का अमला बुलडोजर की मदद से उन्हें उखाड़ रहा है।
नगर निगम के रिमूवल अधिकारी बबलू कल्याणे ने बताया कि जो अवैध निर्माण बीते दो दिन में नहीं टूट पाए थे, उन्हें तोड़ने की कार्रवाई सुबह से जारी है। अगले दो-तीन घंटे में बचा काम पूरा कर दिया जाएगा। गार्डन में जगह-जगह लगाए गए पेड़-पौधे भी हटाए जा रहे हैं, क्योंकि भविष्य में वहां लोगों को प्लाट दिए जाना हैं। निगम के रिमूवल विभाग ने शुक्रवार को रंगून गार्डन तोड़ने की कार्रवाई शुरू की थी। उसके बाद शनिवार को लगातार दूसरे दिन रंगून गार्डन में तोड़फोड़ की कार्रवाई की।
उपायुक्त लता अग्रवाल ने बताया कि दूसरे दिन बाउंड्रीवाल का कुछ हिस्सा, स्टेज और पाथ वे के अलग-अलग हिस्से तोड़े गए थे। बचा काम रविवार को पूरा कर दिया जाएगा। तीसरे दिन गार्डन में लगी टाइल्स और मलबा हटाया जाएगा। उपायुक्त ने बताया कि गार्डन के फोल्डिंग रूम भी हटवाने की कार्रवाई संचालकों द्वारा ही की जा रही है।
15 साल से संचालित है गार्डन
रंगून गार्डन पिछले 15 साल से संचालित किया जा रहा है। वहां एक रेस्त्रां भी संचालित किया जा रहा है। मोटी राशि लेकर यह गार्डन शादी और अन्य आयोजनों के लिए दिया जाता था। यह जमीन हाउसिंग सोसायटी से ली गई थी। पहले भी आवासीय जमीन पर गार्डन बनाने का मामला सामने आया था, लेकिन तब कार्रवाई नहीं हो पाई थी।