Logo
ब्रेकिंग
भव्य कलश यात्रा के साथ माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव शुरू रामगढ़ में मनाया गया 74 वां गणतंत्र दिवस, विभिन्न कार्यालयों द्वारा निकाली गई झांकी माँ की ममता से दूर जेल में बंद पूर्व विधायक मामता देवी का दूधमुहा बच्चा बीमारी की गिरफ्त में । माता वैष्णों देवी मंदिर के 32वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 26 को सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर याद किए गए नेताजी, रामगढ़ से जुड़ा है नेताजी के कई लम्हो का नाता । स्वीप के तहत जिला प्रशासन एकादश एवं दिव्यांग एकादश के बीच हुआ क्रिकेट मैच का आयोजन । नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती एवं पराक्रम दिवस के अवसर पर माल्यार्पण कार्यक्रम का हुआ आयोजन । रामप्रसाद चंद्रभान सरस्वती विद्या मंदिर में संस्कृति ज्ञान परीक्षा का आयोजन। मेदांता रांची द्वारा अधिवक्ता संघ परिसर में लगाया गया निशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर । रामगढ़ विधानसभा उपचुनाव को लेकर कांग्रेस के पदाधिकारियों की हुई बैठक ।

ग्वालियर में मीटिंग के दौरान पार्टी कार्यालय में भिड़े बलवीर सिंह तोमर

ग्वालियर: मध्यप्रदेश भाजपा कार्यालय में पार्षद बलवीर सिंह तोमर व सैनिक प्रकोष्ठ के अध्यक्ष शीतल सिंह भदौरिया के बेटे के बीच जमकर मारपीट हो गई. इस दौरान भाजपा कार्यालय से सड़क तक अफरा-तफरी मच गई. मामला इतना बढ़ा कि बात थाने पहुंच गई. जहां पर दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर FIR दर्ज कराई है. फिलहाल पुलिस मामले की जांच के लिए मुखर्जी भवन के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे को खंगाल रही है

दरअसल, गुरुवार की शाम को बीजेपी युवा मोर्च के प्रदेशाध्यक्ष वैभव पवार के स्वागत को लेकर एक मीटिंग रखी गई थी. इस दौरान उनके स्वागत के लिए पार्षद बलवीर सिंह तोमर व सैनिक प्रकोष्ठ के अध्यक्ष शीतल सिंह भदौरिया के बेटे पहुंचे थे. जिस वक्त वैभव पवार वहां पहुंचे उस वक्त दोनों पक्षों के बीच स्वागत को लेकर विवाद हो गया. विवाद इतना बढ़ा कि दोनों पक्ष के लोगों ने एक दूसरे की पिटाई कर दी

वहीं, इस बारे में जब शीतल सिंह भदौरिया के बेटे वीर विक्रम सिंह भदौरिया से बात की गई तो उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि छोटू तोमर व उसके साथियों ने कट्टे व पिस्टल के ब्ट से मारपीट की है. जबकि बलवीर सिंह तोमर का कहना है कि सभी लोग बैठक में आए थे. कोई हथियार लेकर नहीं आया था मामले में जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी का कहना है कि बैठक के बाद पार्टी कार्यालय के बाहर झगड़ा होने की जानकारी मिली है. दोनों पक्षों के बीच विवाद की वजह पार्षदी के टिकट के दावेदारी को बताया जा रहा है
nanhe kadam hide