Logo
ब्रेकिंग
भव्य कलश यात्रा के साथ माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव शुरू रामगढ़ में मनाया गया 74 वां गणतंत्र दिवस, विभिन्न कार्यालयों द्वारा निकाली गई झांकी माँ की ममता से दूर जेल में बंद पूर्व विधायक मामता देवी का दूधमुहा बच्चा बीमारी की गिरफ्त में । माता वैष्णों देवी मंदिर के 32वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 26 को सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर याद किए गए नेताजी, रामगढ़ से जुड़ा है नेताजी के कई लम्हो का नाता । स्वीप के तहत जिला प्रशासन एकादश एवं दिव्यांग एकादश के बीच हुआ क्रिकेट मैच का आयोजन । नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती एवं पराक्रम दिवस के अवसर पर माल्यार्पण कार्यक्रम का हुआ आयोजन । रामप्रसाद चंद्रभान सरस्वती विद्या मंदिर में संस्कृति ज्ञान परीक्षा का आयोजन। मेदांता रांची द्वारा अधिवक्ता संघ परिसर में लगाया गया निशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर । रामगढ़ विधानसभा उपचुनाव को लेकर कांग्रेस के पदाधिकारियों की हुई बैठक ।

कांग्रेस विधायक को भाजपा के पूर्व विधायक ने दी जान से मारने की धमकी

भोपाल:  मध्यप्रदेश विधानसभा में बृहस्पतिवार को कांग्रेस की एक महिला विधायक ने आरोप लगाया कि अलीराजपुर के पूर्व भाजपा विधायक और एक अन्य नेता ने उन्हें जान से मारने की धमकी दी है। प्रदेश के आदिवासी बहुल झाबुआ जिले की जोबट विधानसभा सीट से कांग्रेस की विधायक कलावती भूरिया ने बृहस्पतिवार को विधानसभा में यह मुद्दा उठाया। भूरिया ने सरकार से धमकी देने वाले नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करने और स्वयं को सुरक्षा दिये जाने की मांग की।

इस मामले में विधानसभा में उत्तर देते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, ‘‘प्रत्येक नागरिक की सुरक्षा सुनिश्चित करना राज्य सरकार का कर्तव्य है। सरकार भूरिया की सुरक्षा के लिये भी जरुरी कदम उठायेगी।’’ आदिवासी विधायक भूरिया ने आरोप लगाया कि अलीराजपुर के पूर्व भाजपा विधायक नागर सिंह चौहान और भाजपा के एक अन्य स्थानीय नेता ने हाल ही में उन्हें जान से मारने की धमकी दी और उनके साथ दुर्व्यवहार किया। इसके साथ ही धमकी देने वालों ने उन्हें (भूरिया) चेतावनी दी की उन्हें अलीराजपुर नहीं आना चाहिये क्योंकि अब यह झाबुआ जिले का हिस्सा नहीं है

आदिवासी बहुल झाबुआ जिले का पुनर्गठन करके 2008 में अलीराजपुर को अलग जिला बनाया गया था। भूरिया ने कहा कि अलीराजपुर में रहने वाले आदिवासियों की समस्याओं को हल करने के लिये उन्हें कई बार वहां जाना पड़ा। इसके बाद भूरिया ने विधानसभा परिसर में संवाददाताओं को बताया कि उन्होंने इस बारे में मुख्यमंत्री को एक पत्र भी लिखा है।

nanhe kadam hide