Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

हवस पूरी करने महिला के पास पहुंच था दरोगा, पेंट भी नहीं पहन पाया, लोगों ने पकड़ लिया…

जबलपुर: ग्वारीघाट के चौधरी मोहल्ले में एक दरोगा महिला के घर से पकड़ा गया है। देह व्यापार से परेशान लोगों ने रविवार देर रात एक महिला के घर से दो लोगों को पकड़ा है।इसमें एक पनागर थाने में पदस्थ एसआई भी था। लोगों ने एसआई समेत दोनों को पुलिस के सुपुर्द कर दिया है। ग्वारीघाट पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

जानकारी के मुताबिक प्रमोशन के 15 दिन बाद ही दरोगा एक महिला के घर से पकड़ा गया। लोगों के शोर मचाने पर वह छत से भागने की कोशिश करने लगा। इस दौरान उसे स्थानीय लोगों ने पकड़ लिया। लोगों ने जब उसे धरा तो उस समय उसने पैंट भी नहीं पहनी थी। चौधरी मोहल्ले में एक महिला दो बेटियों के साथ रहती है। मोहल्ले वालों का आरोप है कि वहां आए दिन पुलिस और अन्य लोग आते हैं। वहां शराब पीकर हंगामा करते हैं। महिलाओं पर देह व्यापार में लिप्त होने का भी लोगों ने आरोप लगाया। कई दिनों से लोग इस घर की गतिविधियों से परेशान थे। बीते रविवार रात को आखिरकार उनके सब्र का हौसला टूट गया।

कार में रखी हुई थी एसआई की वर्दी

ग्वारीघाट थाने की पुलिस पहुंची तो वहां एमपी नंबर 20 सीबी 4261 कार मिली। कार में एसआई की वर्दी मिली। वहीं, भागदौड़ में एसआई की कैप महिला के घर रह गई थी। पुलिस आरोपी एसआई की कार भी ले गई है। अभी पुलिस ने दोनों को हिरासत में लिया है। एएसपी साउथ गोपाल खांडेल के मुताबिक मौके पर कैंट सीएसपी भावना मरावी भी पहुंची थीं। मामले की जांच उन्हें सौंपी गई है। इसके बाद आगे की कार्रवाई होगी।

काफी समय से आ रहा था एसआई
स्थानीय लोगों का आरोप है देह व्यापार में लिप्त इस महिला के यहां एसआई गोविंद तिवारी सहित कई लोग भी आते रहते थे। प्रकरण पुलिस वाले जुड़े होने के चलते ग्वारीघाट की टीम ने पहले इसे दबाने की भी कोशिश की, लेकिन स्थानीय लोगों के आक्रोश के चलते ये संभव नहीं हुआ। मामले की जानकारी अधिकारियों तक पहुंची।

पुलिस सूत्रों की मानें तो एसआई गोविंद तिवारी को 15 दिन पहले ही प्रमोशन मिला है। 58 वर्षीय गोविंद तिवारी की छवि काफी खराब है। शराब पीने और अय्याशी के मामले में वह विभाग में बदनाम हैं। गोविंद तिवारी के खिलाफ पूर्व में गढ़ा थाने में धोखाधड़ी का भी मामला दर्ज हुआ था। हालांकि वर्तमान में वह उस मामले में बरी हो चुके हैं। तब उन पर आरोप लगा था कि छोटी लाइन फाटक स्थित सुविधा अस्पताल के संचालक कुछ अधिवक्ताओं के साथ मिलकर गैंगरीन के मरीजों का हाथ-पांव काट कर उसे एक्सीडेंट का स्वरूप दिया जाता था। फिर इसके एवज में इंश्योरेंस का लाखों रुपये का क्लेम बनाया जाता था।